शिक्षा विभाग के चूरू स्पेशल तबादले


200 वरिष्ठ अध्यापकों की तबादला सूची की जारी
एक ही संभाग में हुए सभी शिक्षकों के तबादले

 

By: Rakhi Hajela

Published: 09 Jan 2021, 12:06 AM IST


शिक्षा विभाग में तबादलों का दौर लगातार जारी है। शुक्रवार को एक बार फिर बैक डेट में तबादला सूची जारी की गई और तकरीबन 200 वरिष्ठ अध्यापकों को तबादले का तोहफा दिया गया, खास बात यह कि सभी वरिष्ठ अध्यापकों के तबादले एक ही संभाग में किए गए यानी चूरू में, जिसमें शिक्षा राज्य मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा के विधानसभा क्षेत्र भी आता है। खास बात यह है कि यह सभी तबादले एक संभाग से दूसरे संभाग में किए गए हैं। जयपुर, कोटा, पाली, जोधपुर, बीकानेर संभाग के इन वरिष्ठ अध्यापकों को चूरू संभाग में लगाया गया है। वह भी उस स्थिति में जबकि इस प्रकार तबादले होने से इन शिक्षकों को अब वरिष्ठता का लाभ भी नहीं मिल सकेगा। ऐसे में अब तबादला सूची जारी होते ही इन पर सवाल भी उठने शुरू हो गए हैं। शिक्षकों का कहना है कि यदि तबादले किए ही जाने थे तो अन्य संभागों में भी वरिष्ठ शिक्षकों के तबादले कर उन्हें पदस्थापना दी जानी चाहिए थी लेकिन ऐसा नहीं हुआ आखिर विभाग ने एक ही संभाग में विशेष मेहरबानी क्यों दिखाई है।
चुनाव में लगा था धक्का
गौरतलब है कि प्रदेश में पंचायतराज और जिला परिषद के चुनावों के परिणाम उम्मीद से बिल्कुल परे रहे। प्रदेश कांग्रेस पंचायत समिति और जिला परिषद दोनों की चुनावों में खास प्रदर्शन नहीं कर पाई। कांग्रेस की जीत की दावेदारी पेश करने वाले कई मंत्री पंचायत की परीक्षा में फेल हो गए। इनमें पीसीसी चीफ और प्रदेश के शिक्षा राज्य मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा भी शामिल हैं। डोटासरा के निर्वाचन क्षेत्र लक्ष्मणगढ़ में कांग्रेस 25 में से केवल 11 सीटों पर ही कब्जा जमा पाई थी। ऐसे में इन तबादलों को इन चुनावों से जोड़कर देखा जा रहा है और माना जा रहा है कि अपने विधानसभा क्षेत्र को साधने के लिए चहेतों को यहां स्थानांतरित किया गया है।
गंगादेवी ने दिया था धरना
गौरतलब है कि शिक्षा विभाग में पिछले कई दिनों से चल रही तबादला प्रक्रिया को लेकर विधायक गंगादेवी ने भी विरोध जताया था। इस संबंध में उन्होंने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के समक्ष नाराजगी जताई थी। ऐसे में यह बात भी सामने आ रही है कि इस बार तबादला प्रक्रिया में विधायकों की डिजायर से तबादले नहीं किए गए। खासतौर पर हारे हुए विधायकों की ओर से दिए गए नामों को तो बिल्कुल भी तवज्जो नहीं दी गई।

Rakhi Hajela Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned