नागरिकता बिल ने पास की राज्यसभा बाधा, पक्ष में 125 जबकि विपक्ष में 105

सेलेक्ट कमेटी में भेजने का प्रस्ताव भी गिरा, शिवसेना और बसपा ने किया वॉकआउट

 

Anoop Singh

11 Dec 2019, 11:08 PM IST

14 प्रस्ताव नामंजूर
06 घंटे तक राज्यसभा में बहस

आगे क्या
अब राष्ट्रपति के हस्ताक्षर के बाद यह बिल एक्ट में तब्दील हो जाएगा

पहली बार: धर्म के आधार पर देश में नागरिकता मिलेगी।
दो आधार
1. पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान के गैर मुस्लिम
2. धार्मिक प्रताडऩा के कारण 31 दिसंबर, 2014 से पूर्व भारत आए।

नई दिल्ली.
नागरिकता संशोधन बिल 2019 बुधवार रात राज्यसभा में पास हो गया। बिल के पक्ष में 125 और विपक्ष में 105 वोट पड़े। बिल को सेलेक्ट कमेटी में भेजने का प्रस्ताव भी 99 के मुकाबले 124 वोटों से गिर गया। राज्यसभा में बहुमत के आंकड़े से दूर सत्तारूढ़ एनडीए सरकार ने बिल पास करा ऐतिहासिक सफलता प्राप्त की है। शिवसेना और बसपा ने वोटिंग के दौरान सदन से वॉक आउट किया। एसपी ने विरोध जबकि एआईएडीएमके व जेडीयू ने बिल का किया समर्थन किया। कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने देश के संवैधानिक इतिहास का काला दिन करार दिया है। राज्यसभा में बिल पेश होने के बाद सदस्यों में काफी तीखी बहस हुई। बिल पास होने के बाद अब पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान में उत्पीडऩ का शिकार गैर मुस्लिम अल्पसंख्यकों को फास्ट ट्रैक सिटिजनशिप मिलने का रास्ता साफ हो गया है।

बिल पर उबाल
केंद्रीय गृहमंत्री शाह के बोल
- देश का धार्मिक आधार पर बंटवारा नहीं होता तो यह बिल न लाना पड़ता। पूर्व की सरकारें समस्या हल नहीं कर पाईं।
- जिन लोगों (कांग्रेस) ने शरणार्थियों को जख्म दिए हैं, वही लोग अब जख्मों का हाल पूछ रहे हैं।
- नेहरू-लियाकत समझौते का पाकिस्तान ने उल्लंघन किया और वहां अल्पसंख्यकों को अधिकार नहीं दिए गए।
- मुझे आइडिया ऑफ इंडिया पता है। मैं भी यहीं पैदा हुआ हूं और मेरी सात पुश्तें यहीं पैदा हुई हैं।
- इस बिल में मुसलमानों का कोई अधिकार नहीं जाता।

कांग्रेस सांसद आनंद शर्मा: आज पटेल होते तो दुखी होते।
भाजपा सांसद जेपी नड्डा: ऐतिहासिक न्याय करनेवाला साबित होगा बिल।
टीएमसी के डेरेक ओ ब्रायन: बिल पश्चिम बंगाल के लोगों के साथ विरोध करनेवाला है।
कांग्रेस सांसद पी. चिदंबरम: सरकार हिंदुत्व अजेंडा को आगे बढ़ा रही है। यह एक बहुत दुखद दिन है।
शिवसेना सांसद संजय राउत: हमें कोई राष्ट्रवाद न सिखाए। जिस स्कूल में आप पढ़ रहे हैं हम उसके हेडमास्टर हैं। हमारे स्कूल के बाला साहेब ठाकरे हैं, अटल जी भी हैं, श्यामा प्रसाद मुखर्जी हैं।


सीएबी से पूर्वोत्तर सुलगा
- प्रदर्शन उग्र, कई ट्रेनें रद्द, असम-त्रिपुरा में सेना बुलाई
- गुवाहाटी में कफ्र्यू लगा
- असम के 10 जिलों में इंटरनेट बंद
- प्रदर्शनकारियों पर लाठीचार्ज और आंसू गैस के गोले दागे

जब शाह का लाइव टेलिकास्ट रुका
अमित शाह बिल पेश कर रहे तो विपक्ष के कुद सदस्यों ने टोका-आकी की। इस पर सभापति ने लाइव टेलिकास्ट रोकने का रेड बटन दबा दिया। लगभग 20-22 सेकंड तक प्रसारण रुका रहा।

'देश के लिए ऐतिहासिक दिनÓ
हमार सहिष्णुता और भाईचारे की राष्ट्रीय परंपरा के लिए आज का दिन ऐतिहासिक है। बिल पास होने पर समर्थन करने वाले सांसदों का धन्यवाद।
पीएम नरेंद्र मोदी का ट्वीट

anoop singh Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned