दो मंत्रियों के बीच वर्चस्व की जंग कांग्रेस में चर्चा का विषय, आलाकमान चिंतित

विश्ववेंद्र सिंह और सुभाष गर्ग के बीच चल रही है जुबानी जंग, प्रसव के दौरान बच्चे की मौत के मामले पर विश्ववेंद्र ने घेरा

By: firoz shaifi

Published: 05 Apr 2020, 11:00 AM IST

जयपुर। कोरोना वायरस के प्रकोप के बीच इन दिनों गहलोत सरकार के दो मंत्रियों के बीच चल रही वर्चस्व की जंग कांग्रेस हलकों में चर्चा का विषय बनी हुई है। कांग्रेस के राजनीतिक गलियारों के साथ ही नौकरशाहों के बीच भी इसे लेकर चर्चा है।

दो मंत्रियों के बीच चल रही जुबानी जंग से कांग्रेस आलाकमान भी बेहद चिंतित हैं। सूत्रों की माने तो कांग्रेस आलाकमान इस मामले को सुलझाने के लिए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से भी आज चर्चा कर सकते हैं।

दरअसल पर्यटन मंत्री विश्ववेंद्र सिंह और चिकित्सा राज्यमंत्री सुभाष गर्ग के बीच सरकार बनने के बाद से राजनीतिक अदावत चली आ रही है। ऐसे कई मौके आए जब दोनों एक दूसरे पर सवाल खड़े कर चुके हैं। ताजा मामला भरतपुर में एक मुस्लिम महिला के प्रसव से जुड़ा है, जहां चिकित्सक ने महिला को भर्ती करने की बजाए जयपुर जाकर इलाज कराने को कहा।

इस दौरान महिला के प्रसव हो गया और बच्चे की मौत हो गई। इस मामले को लेकर पर्यटन मंत्री विश्ववेंद्र सिंह ने चिकित्सक पर कार्रवाई करने की मांग के साथ ही चिकित्सा राज्यमंत्री पर भी सवाल खड़े कर दिए।


ये भी एक वजह
दरअसल इसकी एक वजह यह भी है कि चिकित्सा राज्यमंत्री लोकदल से विधायक हैं और गठबंधन के चलते उन्हें सरकार में शामिल किया गया था। चिकित्सा राज्यमंत्री सुभाष गर्ग को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का बेहद करीबी माना जाता है। भरतपुर में अधिकांश फैसले उनकी मर्जी से होते हैं, ऐसे में दोनो के बीच वर्चस्व की लड़ाई हो रही है।

 

विश्ववेंद्र ने पहले भी घेरा
वहीं इससे पहले कोटा के जेकेलॉन अस्पताल में बच्चों की मौत के मामले के दौरान विश्ववेंद्र सिंह भरतपुर के अस्पतालों में श्वानों की आवाजाही को लेकर सुभाष गर्ग पर सवाल खड़े कर चुके हैं, नगर निगम चुनाव के दौरान दोनों के बीच खींचतान जगजाहिर थी।

Corona virus
firoz shaifi Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned