राहुल की प्रतिष्ठा से जुड़े केरल का चुनाव गहलोत की देखरेख में लड़ेगी कांग्रेस

कांग्रेस इस साल हो रहे पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव वरिष्ठ नेताओं की देखरेख में लड़ने जा रही है। इसके लिए वरिष्ठ नेताओं को पर्यवेक्षक की जिम्मेदारी दी गई है।

By: kamlesh

Published: 06 Jan 2021, 07:06 PM IST

शादाब अहमद
जयपुर/नई दिल्ली। कांग्रेस इस साल हो रहे पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव वरिष्ठ नेताओं की देखरेख में लड़ने जा रही है। इसके लिए वरिष्ठ नेताओं को पर्यवेक्षक की जिम्मेदारी दी गई है। जिनकी देखरेख में चुनाव प्रचार अभियान समेत अन्य चुनावी गतिविधियां होगी। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को राहुल गांधी की प्रतिष्ठा से जुड़े केरल के चुनाव की जिम्मेदारी दी गई है।

कांग्रेस संकट से जूझ रही है। एक के बाद एक राज्यों में चुनाव हार रही है। ऐसे में अब कांग्रेस वापसी की कोशिश में लगी हुई है। कांग्रेस नेता पांच राज्यों में होने वाले चुनाव एक अवसर की तरह देख रहे हैं। केरल, असम और तमिलनाडू में कांग्रेस को वापसी की संभावना दिख रही है। इसके चलते पार्टी वरिष्ठ नेताओं को चुनाव में भरपूर उपयोग करने में जुट गई है। वहीं केरल के वायनाड से राहुल गांधी सांसद है।

ऐसे में केरल के विधानसभा चुनाव से उनकी प्रतिष्ठा भी जुड़ गई है। यही वजह है कि गुजरात में राहुल के साथ आक्रमक प्रचार करने वाले गहलोत को केरल की जिम्मेदारी दी गई है। गहलोत यहां पर प्रभारी महासचिव तारिक अनवर से समन्वय स्थापित करने के साथ चुनाव प्रचार प्रबंधन को भी देखेंगे। गहलोत के साथ ल्यूजनियो फलेरो और जी.परमेशवरा को पर्यवेक्षक लगाया गया है।

-छग सीएम बघेल को असम की जिम्मेदारी
छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को असम की जिम्मेदारी दी गई है। उनके साथ महासचिव मुकुल वासनिक और शकील अहमद खान को लगाया गया है। वहीं तमिल नाडू और पुडुचेरी में वरिष्ठ नेता एम.वीरप्पा मोइली, एमएम पल्लम राजू और नितिन राउत को लगाया गया है। जबकि पश्चिम बंगाल में बी.के.हरिप्रसाद, आलमगीर आलम और विजय इंद्र सिंगला को पर्यवेक्षक लगाया गया है।

Congress

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned