scriptCm Ashok Gehlot Jaipur Smart City Work Amen Kagji Jaipur News | विधायक ने चलाई गाड़ी, एलएसजी सचिव को दिखाई स्मार्ट सिटी की हकीकत | Patrika News

विधायक ने चलाई गाड़ी, एलएसजी सचिव को दिखाई स्मार्ट सिटी की हकीकत

स्मार्ट सिटी के काम की धीमी रफ्तार से नाखुश विधायक अमीन कागजी ने शनिवार को खुद गाड़ी चलाकर अधिकारियों को काम की हकीकत बताई। कागजी ने स्वायत्त शासन विभाग के सचिव भवानी सिंह देथा और स्मार्ट सिटी सीईओ अवधेश मीणा को करीब 7 घंटे तक स्मार्ट सिटी के शहर में चल रहे कामों की क्वालिटी और रफ्तार की स्थिति के बारे में बताया।

जयपुर

Published: August 14, 2021 06:15:15 pm

जयपुर।

स्मार्ट सिटी के काम की धीमी रफ्तार से नाखुश विधायक अमीन कागजी ने शनिवार को खुद गाड़ी चलाकर अधिकारियों को काम की हकीकत बताई। कागजी ने स्वायत्त शासन विभाग के सचिव भवानी सिंह देथा और स्मार्ट सिटी सीईओ अवधेश मीणा को करीब 7 घंटे तक स्मार्ट सिटी के शहर में चल रहे कामों की क्वालिटी और रफ्तार की स्थिति के बारे में बताया। जिसके बाद अधिकारियों ने माना कि काम की रफ्तार उम्मीद से बहुत कम है। दौरे के बाद देथा ने हैरिटेज नगर निगम दफ्तर में अधिकारियों की बैठक ली और साफ कहा कि काम की क्वालिटी और रफ्तार से किसी तरह का समझौता नहीं होगा।
विधायक ने चलाई गाड़ी, एलएसजी सचिव को दिखाई स्मार्ट सिटी की हकीकत
विधायक ने चलाई गाड़ी, एलएसजी सचिव को दिखाई स्मार्ट सिटी की हकीकत
इसलिए पड़ी दौरे की जरूरत

स्मार्ट सिटी की दौड़ में कोटा, अजमेर और उदयपुर के मुकाबले जयपुर कहीं नजर नहीं आ रहा है। जयपुर की स्मार्ट सिटी के कार्यों के आधार पर देश में 28वीं रैंक है। यही नहीं करीब 539 करोड़ रुपए के काम अधूरे हैं। 200 करोड़ से ज्यादा के काम टेंडर प्रोसेस में हैं। जिसकी वजह से विधायक अमीन कागजी जब व्यापारियों को लेकर यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल के पास पहुंचे तो शनिवार को एलएसजी सेकेट्री भवानी सिंह देथा स्मार्ट सिटी के कार्यों को लेकर दौरा करने पहुंचे।
कचरे के ढेर, सड़कों पर पड़ा है मलबा

निरीक्षण के दौरान देथा को शहर में जगह—जगह कचरे के ढेर मिले। कई जगहों पर मलबा सड़कों पर पड़ा था। जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों का ये दौरा न्यू गेट से शुरू हुआ, जो संजय बाजार, चौड़ा रास्ता, बड़ी चौपड़, हवामहल रोड, त्रिपोलिया बाजार, ताड़केश्वर महादेव मंदिर समेत कई जगह गए और वहां की स्थितियों को दिखाया। भाजपा सांसद से लेकर शहर के कांग्रेस विधायक और व्यापारी स्मार्ट सिटी के कामकाज से नाखुश हैं।
जयपुर में तकनीकी पेंच सुलझा रहे हैं

स्मार्ट सिटी की जयपुर की खराब स्थिति को लेकर देथा से जब सवाल पूछा तो उन्होंने कहा कि कोटा यूडीएच मंत्री का गृहजिला और वो खुद काम की मॉनिटरिंग करते हैं। जयपुर में कई तकनीकी समस्याएं आ रहे हैं, जिन्हें दूर किया जा रहा है। लेकिन अभी भी हेरिटेज एक्सपर्ट की कमी और काम में ढिलाई पीछा नहीं छोड़ रहे। हमारी शान बनी छतें गिर रही हैं, बरामदें दरक रहे हैं तो हेरिटेज पर बने दाग हटाए नहीं जा रहे।
बरती जा रही लापरवाही

जयपुर के परकोटे स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत पिछले 6 साल से विकास के काम चल रहे हैं। सभी बाजारों में फसाड़ और हैरिटेज संरक्षण के काम किए जाने थे। जिन पर 14 करोड़ रुपए खर्च होने हैं, लेकिन आधा पैसा खर्च होने के बाद काम बंद हो गया। इसके बाद फिर से टेंडर किए गए हैं। मगर बारिश ने पूर्व में किए गए कामों की बखिया उधेड़ दी। कई जगहों पर बरामदें की छतें गिर गई तो कई जगहों पर प्लास्टर उखड़ गया। इसके अलावा गंदी गलियों में 6.50 करोड़ रुपए से पाइप, सीवरेज, ड्रेनेज, नाली मरम्मत के काम करने थे। लेकिन 2 करोड़ खर्च होने के बाद यह काम भी बंद हो गया। स्मार्ट रोड भी चांदपोल और किशनपोल बाजार तक ही सीमित रह गई। इन सड़कों के बनने के बाद यहां के व्यापारी परेशान हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

PM मोदी की मौजूदगी में BJP केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक आज, फाइनल किए जाएंगे UP, उत्तराखंड, गोवा और पंजाब के उम्मीदवारों के नामक्‍या फ‍िर महंगा होगा पेट्रोल और डीजल? कच्चे तेल के दाम 7 साल में सबसे ऊपरतो क्या अब रोबोट भी बनाएंगे मुकेश अंबानी? इस रोबोटिक्स कंपनी में खरीदी 54 फीसदी की हिस्सेदारीशॉपिंग मॉल्स को नहीं है पार्किंग वसूलने का अधिकार, कोर्ट ने बताई वजहPunjab: ED की बड़ी कार्रवाई, सीएम चन्नी के भतीजे के यहां से 6 करोड़ की नगदी बरामदतो क्या अब रोबोट भी बनाएंगे मुकेश अंबानी? इस रोबोटिक्स कंपनी में खरीदी 54 फीसदी की हिस्सेदारीPost office के पिन कोड से तैयार किया फॉर्मूला, आसान हुई कैमिस्ट्री की पढ़ाईMP Board; कक्षा 10वीं और 12वीं की प्री बोर्ड परीक्षा कल से
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.