विभाजनकारी कानून वापस ले केंद्र सरकार-गहलोत

सीएए-एनआरसी के खिलाफ प्रदर्शन में पंहुचे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत।

 

जयपुर. नागरिकता संशोधन कानून और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर के विरोध में शहीद स्मारक पर चल रहे धरने में शुक्रवार को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पहुंचे। लोगों को संबोधित करते हुए गहलोत ने कहा कि देश के आम लोगों की भावनाओं का सम्मान करते हुए केन्द्र सरकार को सीएए और एनपीआर की प्रक्रिया पर रोक लगानी चाहिए।
धरने में शामिल लोगों को उन्होंने आश्वस्त किया कि राज्य सरकार नागरिकों के बीच भेद करने वाले कानून को लागू होने से रोकने के लिए हर आवश्यक कदम उठाएगी। इस विषय में केन्द्र सरकार को उचित जवाब दिया जाएगा।
उन्होंने कहा कि हमें देश में ऐसा माहौल बनाना चाहिए कि सभी धर्मों और जातियों के लोग शांति, सद्भाव और प्रेम से रहें। देशभर में 300-400 जगह पर केंद्र सरकार के विभाजनकारी निर्णय के खिलाफ धरने-प्रदर्शन और आंदोलन चल रहे हैं। अधिकांश राज्यों के मुख्यमंत्री कह चुके हैं कि सीएए और एनआरसी को लागू नहीं करेंगे। ऐसे में, केन्द्र सरकार को चाहिए कि वह स्वयं ही संविधान की मूल भावना को नष्ट करने वाले कानून और इससे जुड़ी प्रक्रिया को वापस ले।
धरने में मुख्यमंत्री के साथ सूचना एवं जनसम्पर्क राज्य मंत्री सुभाष गर्ग, विधायक रफीक खान और अमीन कागजी, आरटीडीसी के पूर्व चेयरमैन राजीव अरोड़ा आदि उपस्थित रहे।

Rajkumar Sharma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned