छबड़ा सांप्रदायिक हिंसा: BJP ने साधा Gehlot सरकार पर निशाना, जानें क्या बताया 'बवाल' का कारण

बारां जिले के छबड़ा में साम्प्रदायिक हिंसा मामला, मौके पर फिलहाल शांति, लेकिन सियासत गरमाई, भाजपा सांसद दुष्यंत सिंह और विधायक प्रताप सिंघवी के आक्रामक तेवर, दोनों नेताओं ने लगाए सरकारी तंत्र पर ढिलाई के आरोप, अफवाहों पर ध्यान नहीं देने और शांति बनाए रखने की अपील, सरकार से निष्पक्ष जांच और दोषियों पर कार्रवाई की मांग

 

By: nakul

Published: 12 Apr 2021, 01:18 PM IST

जयपुर।

बारां में कल हुए सांप्रदायिक हिंसा को लेकर राज्य सरकार भाजपा नेताओं के निशाने पर है। बारां-झालावाड सांसद दुष्यंत सिंह और विधायक प्रताप सिंह सिंघवी ने इस घटनाक्रम को दुखद बताते हुए इसे सरकारी तंत्र की लापरवाही की वजह बताया है। दोनों नेताओं ने सरकार पर आरोप लगाते हुए पूरे मामले की निष्पक्ष जांच करने और दोषियों पर सख्त कार्रवाई करने की मांग की है।

 

प्रशासनिक संवेदनहीनता की वजह से बिगड़ा माहौल : दुष्यंत सिंह
झालावाड-बारां सांसद दुष्यंत सिंह ने रविवार को छबड़ा में हुई सांप्रदायिक तनाव की घटना को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया। उन्होंने सरकारी तंत्र पर आरोप लगाते हुए कहा कि प्रशासनिक संवेदनहीनता की वजह से छबड़ा में भाईचारे के माहौल को क्षति पहुंची है। सांसद ने क्षेत्र की जनता से अफवाहों पर ध्यान नहीं देने और शांति बनाये रखने की अपील की है। साथ ही राज्य सरकार से मामले की निष्पक्ष जांच की मांग भी की।

 

पुलिस मुस्तैद रहती तो नहीं होती घटना: सिंघवी
बारां विधायक प्रताप सिंह सिंघवी ने भी पूरे घटनाक्रम में सरकारी तंत्र की नाकामी को ज़िम्मेदार बताया। उन्होंने विधानसभा क्षेत्र में उपजे हालातों पर दुःख जताते हुए कहा कि यदि शनिवार शाम को ही विवाद शुरू होने पर स्थानीय पुलिस गंभीरता दिखाती तो घटना को टाला जा सकता था। शनिवार की घटना के बाद स्थानीय लोगों को लगता कि पुलिस कार्रवाई कर रही है, तो घटना घटित ही नहीं होती।

 

उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि यह स्थानीय पुलिस की नाकामी है कि छबड़ा में आजाद सर्किल से लेकर अलीगंज व लोटाभैरुं में भारी नुकसान हुआ, जिसमें निरपराध व्यापारियों की दुकानें जलाई गईं। छबड़ा विधायक ने लोगों से शांति-सद्भावना बनाए रखने की अपील की। साथ ही बारां पुलिस को बेकसूर लोगों पर झूठे मुकदमे कर नहीं फंसाने को लेकर भी आगाह किया है।

 

ये हुआ है मामला
छबड़ा उपखंड मुख्यालय पर शनिवार को कस्बे में चाकूबाजी की घटना घटी थी। घटना को लेकर रविवार दोपहर के दौरान फिर से दो पक्षों में विवाद और झगड़ा हुआ। फिर स्थिति तनावपूर्ण होती चली गई। उपद्रवियों ने कस्बे में जमकर उत्पात मचाया। कस्बे में कई प्रमुख बाजारों के बेकसूर व्यापारियों की दुकानों में तोड़फोड़ की गई, साथ ही दुकानों को आग के हवाले कर दिया। हालात बेकाबू हुए तो पुलिस को स्थिति को नियंत्रित करने के लिए आंसू गैस के गोले दागने पड़े और उपद्रवियों पर लाठीचार्ज करना पड़ा।

 

तनाव को देखते हुए कर्फ्यू लगा
तनाव के हालात में कस्बा बंद हो गया। हर तरफ कस्बे में आग की लपटें और धुंआ नजर आ रहा है। ऐसे में आमजन की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए बारां जिला कलेक्टर राजेंद्र विजय ने तत्काल प्रभाव से छबड़ा नगर पालिका क्षेत्र में कर्फ्यू लागू कर दिया है, जो आगामी आदेश तक जारी रहेगा। कर्फ्यू की निषेधाज्ञा रविवार शाम 4 बजे से लागू कर दी गई है। इधर, कस्बे के तनावपूर्ण हालात से निपटने को पुलिस का भारी जाप्ता और सुरक्षा बल तैनात किया गया है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned