फिर से विज्ञापन पर खर्च बढ़ाने की तैयारी में कंपनियां

स्मार्टफोन, इलेक्ट्रॉनिक्स की कंपनियां कस रही कमर

By: Jagmohan Sharma

Published: 30 May 2020, 12:08 AM IST

कोलकाता. कोविड-19 महामारी रोकने के लिए लागू लॉकडाउन के कारण मीडिया को कंपनियों के विज्ञापनों के लाले पड़ गए हैं। अब फिर से कंपनियों की ओर से उत्पादों के विज्ञापनों पर पहले जैसे खर्च करने का मौसम आने वाला है। किराना, घर, व्यक्तिगत देखभाल, स्मार्टफोन, इलेक्ट्रॉनिक्स के अग्रणी ब्रांड और कुछ खुदरा विक्रेता फिर से विज्ञापन पर खर्च शुरू करने के लिए कमर कस रहे हैं। पुराने स्टॉक में पड़े सामान को नए सिरे से बाजार में लॉन्च करेंगे।

मार्केटिंग बजट में कटौती नहीं
भारत के सबसे बड़े स्मार्टफोन ब्रांड जियाओमी ने कहा कि उसने अपने मार्केटिंग बजट में कटौती नहीं की है और पहले ही कई नए उत्पाद लॉन्च के साथ खर्च करना शुरू कर दिया है। आईपीजी मेडीब्रांड्स इंडिया के मुय कार्यकारी शशि सिन्हा ने कहा कि आवाज का बाजार में हिस्सा बहुत महत्वपूर्ण है और उपभोक्ता कंपनियां को डर है कि अगर वे विज्ञापन पर खर्च नहीं करेंगी तो उन्हें बाजार में अपना नुकसान होगा।

विज्ञापन पर निवेश अब जरूरी
देश की सबसे बड़ी खाद्य पदार्थ कंपनी पारले प्रोडक्ट्स के बी कृष्णा राव ने कहा कि विज्ञापन को याद रखना और विज्ञापन पर निवेश करना पहले की तुलना में अब अधिक महत्वपूर्ण है, क्योंकि उपभोक्ता अलमारियों में जो भी पाते हैं वो सभी खरीद रहे हैं। हम विज्ञापन पर खर्च करेंगे। गोदरेज कंज्यूमर प्रोडक्ट्स के सीईओ सुनील कटारिया ने कहा कि उपभोक्ताओं के बीच आदत बनाने के लिए अधिक निवेश करना होगा।

Jagmohan Sharma Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned