क्रूड, प्रोडक्ट व पानी लाइन का सर्वे पूरा, 650 किमी तक बिछेंगी लाइन

प्रोजेक्ट में इस साल डेढ़ से 2 हजार करोड़ के होंगे कार्य

By: Priyanka Yadav

Published: 16 May 2018, 02:46 PM IST

जयपुर . विधानसभा चुनाव से ठीक पहले बाड़मेर की पचपदरा रिफाइनरी में 4 बड़ी पाइप लाइनें बिछाने का काम शुरू हो जाएगा। इनका सर्वे पूरा कर लिया गया है। जल्द टेण्डर कर पाइप लाइनें बिछाने का काम शुरू होगा।

मुख्य रूप से पानी की लाइन इंदिरा गांधी के नाचना डेम से पचपदरा आएगी। रिफाइनरी तक क्रूड ऑयल लाने के लिए 2 लाइन डाली जाएंगी। इनमें एक केयर्न के जैसलमेर स्थित मंगला प्रोसेसिंग टर्मिनल से और दूसरी गुतरात के भोगत से पचपदरा तक आएगी। रिफाइनरी में तैयार होने वाले प्रोडक्ट पेट्रोल, डीजल, केरोसिन व अन्य को बाहर ले जाने के लिए हरियाणा के भटिण्डा से राजस्थान होकर गुजरात जा रही लाइन से जोड़ा जाएगा। इनकी लम्बाई 80 किमी से 650 किलोमीटर तक होगी। एचपीसीएल और राजस्थान सरकार की संयुक्त कंपनी एचपीसीएल राजस्थान रिफाइनरी लिमिटेड के अधिकारियों के मुताबिक 4 तरह की पाइप लाइन डालने, साइट ऑफिस और टाउनशिप सहित अन्य काम कराने के लिए अगले 3 माह में काम और तेज हो जाएगा। चारदीवारी, इंटरनल सड़क, जमीन समतलीकरण, मृदा परीक्षण और पाइपलाइन सर्वे के काम के साथ अब पाइप लाइनें बिछाने का काम शुरू होगा। इसके लिए टेण्डर करने की तैयारी है। इस साल इन सभी कार्यों पर डेढ़ से दो हजार करोड़ रुपए खर्च होंगे।

 

500 करोड़ खर्च

रिफाइनरी में 33 किमी लम्बाई में चारदीवारी निर्माण, अंदरूनी करीब 26 किमी सड़क, पानी, क्रूड और प्रोडक्ट लाइन सर्वे जमीन समतलीकरण और सोयल टेस्टिंग (मृदा परीक्षण) सहित अन्य कार्यों को लेकर अब तक करीब 500 करोड़ के टेण्डर हो चुके हैं।

रिफाइनरी के लिए सरकार की ओर से आवंटित जमीन की कीमत करीब 222 करोड़ रुपए आंकी है। इसे सरकार की हिस्सेदारी के रूप में रिफाइनरी की लागत में शामिल किया जाएगा।

 

यहां डाली जाएंगी पाइप लाइन

- केयर्न के जैसलमेर स्थित मंगला प्रोसेसिंग टर्मिनल साइट से पचपदरा तक करीब 80 किमी लम्बी क्रूड ऑयल पाइप लाइन

- पचपदरा से इंदिरा गांधी नहर के नाचना डेम तक करीब 250 किमी लम्बी पाइप लाइन

- रिफाइनरी में तैयार होने वाले पेट्रोल, डीजल, केरोसिन सहित अन्य प्रोडक्ट बाहर भेजने के लिए 150 किमी लम्बी प्रोडक्ट लाइन को भटिण्डा से गुजरात के मुद्रा जा रही लाइन में जोड़ा जाएगा

- राजस्थान में रिफाइनरी के लिए क्रूड ऑयल कम पडऩे पर बाहर से क्रूड मंगवाने के लिए करीब 650 किमी लाइन गुजरात के भोगत से पचपदरा तक आएगी।

 

रफाइनरी में हिस्सेदारी

एचपीसीएल : 74%

राज्य सरकार : 26%

 

कार्यों पर यों खर्च हो रही राशि

255 करोड़ खर्च हुए वित्तीय वर्ष 2017-18 में

1500-2000 करोड़ रु. खर्च होंगे 2018-19 में

 

Priyanka Yadav
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned