90 निकायों में चुनावः प्रत्याशी आज होंगे फाइनल, बगावत के डर से सार्वजनिक नहीं होगी प्रत्याशियों की घोषणा

- प्रत्याशी घोषित नहीं करने की परंपरा को बरकरार रखना चाहती है कांग्रेस, प्रत्याशियों को फोन के जरिए ही सूचना देंगे कांग्रेस पर्यवेक्षक, 90 निकायों में नामांकन की कल है आखिरी तारीख

By: firoz shaifi

Updated: 14 Jan 2021, 08:42 AM IST

जयपुर। प्रदेश के 20 जिलों के 90 निकायों में होने जा रहे विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के प्रत्याशियों की सूची आज फाइनल हो जाएगी। आज शाम तक पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा प्रत्याशियों की सूची के नामों को फाइनल कर उन पर मुहर लगाकर सूची पुनः पर्यवेक्षकों को सौंप देंगे। इसके बाद पर्यवेक्षक अपने प्रभाव वाले क्षेत्रों में जाकर प्रत्याशियों को सूचना देंगे।

इससे पहले पर्यवेक्षकों ने प्रभार वाले जिलों में तीन दिन तक दावेदारों की रायशुमारी की और उनका जमीनी फीडबैक लिया और तीन-तीन नामों का पैनल तैयार करके बुधवार रात को पैनल पीसीसी को सौंप दिए, वहीं कई पर्यवेक्षकों ने आज सुबह दावेदारों के पैनल प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय को सौंपे हैं। पीसीसी की ओर से दावेदारों में प्रत्याशियों का चयन कर सूची को अंतिम रूप दिया जाएगा। पर्यवेक्षकों की ओर से आज देर रात तक प्रत्याशियों को फोन करके पार्टी का आधिकारिक प्रत्याशी घोषित होने की सूचना देने के साथ ही उन्हें सिंबल भी दिए जाएंगे।


बगावत के डर से सार्वजनिक नहीं होगी सूची
वहीं दूसरी ओर कांग्रेस को टिकट वितरण के बाद बगावत का अंदेशा है, प्रत्याशियों की घोषणा सार्वजनिक करने के बाद पार्टी में बड़े स्तर पर बगावत न हो जाए, इसलिए 90 निकायों में भी कांग्रेस पार्टी प्रत्याशियों की घोषणा सार्वजनिक करने से कतरा रही है।

पार्टी में चर्चा है कि प्रत्याशियों की सूची सार्वजनिक करने की बजाए केवल जिन दावेदारों के नाम प्रत्याशियों के तौर पर अधिकृत किए गए हैं उन्हें फोन के जरिए सूचना देकर नामांकन दाखिल करने को कहा जाएगा। पार्टी प्रत्याशियों की घोषणा सार्वजनिक नहीं करने करने का फॉर्मूला पूर्व में 6 नगर निगम चुनाव, पंचायत-जिला परिषद, 50 निकायों में आजमा चुकी है, अब यही परंपरा 90 निकायों के चुनाव में भी कांग्रेस आजमाएगी।

इस बार खाली नहीं दिए जाएंगे सिंबल
वहीं दूसरी ओर पूर्व में हुए चुनावों में खाली सिंबल देने की शिकायतें मिलने के बाद प्रदेश प्रभारी अजय माकन न पर्यवेक्षकों को भरे हुए सिंबल ही देने के निर्देश दिए हैं। 10 जनवरी को प्रदेश कांग्रेस कार्यकारिणी की पहली बैठक में प्रदेश प्रभारी अजय माकन ने निकाय चुनावों में खाली सिंबल देने पर नाराजगी जताई थी।

गौरतलब है कि पार्टी ने इस बारसंगठन के पदाधिकारियों को ही पर्यवेक्षकों की जिम्मेदारी सौंपी है। पीसीसी के जिला प्रभारियों को ही पर्यवेक्षकों का जिम्मा दिया गया था, पर्यवेक्षकों ने सोमवार से बुधवार तक अपने अपने प्रभार वाले क्षेत्रों में पहुंचकर दावेदारों की रायशुमारी कर तीन-तीन नामों की सूचियां तैयार की थी।

15 जनवरी है नामांकन की आखिरी तारीख
दर्शन 90 निकायों में नामांकन की आखिरी तारीख 15 जनवरी दोपहर 3:00 बजे तक ही नामांकन दाखिल किए जा सकेंगे ऐसे में पार्टी का पूरा प्रयास यह है कि वे 14 जनवरी की रात तक प्रत्याशियों के नाम फाइनल कर दे।

इन जिलों में हो 90 निकायों के चुनाव
प्रदेश के जिन 20 जिलों में 90 निकायों के चुनाव हो रहे हैं, उनमें अजमेर, बांसवाड़ा, बीकानेर, भीलवाड़ा, बूंदी, प्रतापगढ़, चित्तौड़गढ़, चूरू, डूंगरपुर, हनुमानगढ़, जैसलमेर, जालौर, झालावाड़, झुंझुनूं, नागौर, पाली, राजसमंद, सीकर, टोंक और उदयपुर है। 90 निकायों 1 नगर निगम, 9 नगर परिषद और 80 नगर पालिका हैं। इन निकायों में एकमात्र अजमेर नगर निगम हैं।

firoz shaifi Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned