उपचुनाव में बेहतर परफॉर्मेंस वाले कांग्रेस नेताओं का बढ़ेगा कद, सत्ता-संगठन में मिलेगी बड़ी जिम्मेदारी

-तीनों सीटों पर जीत के प्रति आश्वस्त है प्रदेश कांग्रेस, चुनाव प्रभारियों और कार्यकर्ताओं को राजनीतिक नियुक्तियों और संगठन में मिलेंगे अहम पद, मंत्रिमंडल में भी बने रहेंगे उपचुनाव के प्रभारी मंत्री, संगठन के नेताओं को किया जा सकता है राजनीतिक नियुक्तियों में एडजस्ट, पीसीसी कंट्रोल रूम में तैनात नेताओं को मिलेगी बड़ी जिम्मेदारी

By: firoz shaifi

Published: 20 Apr 2021, 10:52 AM IST

फिरोज सैफी/जयपुर।

प्रदेश की 3 सीटों सहाड़ा, राजसमंद और सुजानगढ़ में हुए उपचुनाव में पार्टी के लिए जी-जान से मेहनत करने वाले नेता और कार्यकर्ताओं को पुरस्कृत करने की तैयारी कांग्रेस में शुरू हो गई है। सहाड़ा राजसमंद और सुजानगढ़ में अगर कांग्रेस की जीत होती है तो इन उपचुनावों में पार्टी प्रत्याशियों और पार्टी के लिए काम करने वाले नेताओं-कार्यकर्ताओं को सत्ता और संगठन में बड़ी जिम्मेदारी देने की चर्चा कांग्रेस गलियारों में चल रही है।


पार्टी से जुड़े विश्वस्त सूत्रों ने भी संकेत दिए हैं। हालांकि कांग्रेस थिंक टैंक तीनों ही सीट पर जीत के दावे कर रहा है और तीनों सीट पर जीत के प्रति आश्वस्त है। ऐसे में उन कार्यकर्ताओं और नेताओं की लिस्ट तैयार करने का काम शुरू हो चुका है जिन्होंने उपचुनाव में पार्टी के लिए जी तोड़ मेहनत की है। दरअसल तीनों सीटों पर मंत्रियों के साथ-साथ संगठन से जुड़े नेता और कार्यकर्ताओं ने पिछले कई महीने से इन उपचुनावों वाले क्षेत्रों में डेरा डाले रखा है और उपचुनाव संपन्न होने तक वहीं रहकर चुनाव प्रबंधन करते रहे।

ऐसे में उपचुनाव में काम करने वाले नेताओं और कार्यकर्ताओं को कांग्रेस थिंक टैंक सत्ता और संगठन में बड़े पदों पर एडजस्ट करने का मन बना चुका है। इसे लेकर प्रदेश प्रभारी अजय माकन, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पीसीसी चीफ गोविंद डोटासरा के बीच चर्चा भी हो चुकी है।

मंत्रिमंडल में बने रहेंगे चुनाव के प्रभारी मंत्री
विश्वस्त सूत्रों की माने तो उपचुनाव के प्रभारी मंत्री आगामी मंत्रिमंडल विस्तार और फेरबदल में भी मंत्रिमंडल में बने रहेंगे। सरकार उपचुनाव में उनके काम को देखते हुए मंत्रिमंडल में बनाए रखेगी। उपचुनाव के प्रभारी मंत्रियों में गोविंद सिंह डोटासरा, डॉ रघु शर्मा, अशोक चांदना, उदयलाल आंजना, प्रमोद जैन भाया, भंवर सिंह भाटी है। तीनों उपचुनाव की कमान इन्हीं मंत्रियों के हाथों में थी। हालांकि इनमें कई मंत्री ऐसे भी हैं कि जिनके विभागीय कामकाज से मुख्यमंत्री संतुष्ट नहीं है लेकिन उपचुनाव में उनके काम को देखते हुए ये मंत्री अब मंत्रिमंडल में बने रहेंगे।

राजनीतिक नियुक्तियों और संगठन में मिलेगी जगह
वहीं उपचुनाव में काम करने वाले नेताओं और कार्यकर्ताओं को आगामी संगठन विस्तार और राजनीतिक नियुक्तियों में अहम पद दिए जाएंगे। उपचुनाव वाले तीनों जिलों के कार्यकर्ताओं को जिला स्तरीय राज्य नियुक्तियां और जिला स्तरीय संगठन में एडसजस्ट किया जाएगा। साथ ही प्रदेश कांग्रेस की ओर से उपचुनावों में नियुक्त नेताओं को भी प्रदेश कांग्रेस के संभावित विस्तार में प्रदेश कांग्रेस कार्यकारिणी में जगह मिलने की बात कही जा रही है।

कंट्रोल रूम में तैनात भी होंगे एडजस्ट
इधर प्रदेश कांग्रेस कंट्रोल रूम में तैनात नेताओं और कार्यकर्ताओं को भी राजनीतिक नियुक्तियों और संगठन में नई जिम्मेदारी मिल सकती है। पंचायत, जिला परिषद, निकाय चुनाव और उपचुनाव में पीसीसी कंट्रोल रूम में तैनात लगातार कंट्रोल रूम के जरिए चुनाव चुनाव प्रबंधन की मॉनिटरिंग करते आ रहे हैं।

चुनाव परिणाम का इंतजार
सूत्रों का कहना है कि 2 मई को चुनाव परिणाम में अगर चुनाव परिणाम कांग्रेस के पक्ष में रहता है तो फिर जल्द ही इन नेताओं और कार्यकर्ताओं को पुरस्कृत किया जाएगा।

Congress leader
firoz shaifi Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned