राज्यसभा में जाने के लिए कांग्रेस नेताओं में घमासान शुरू

51 सदस्यों का कार्यकाल समाप्त होने पर अप्रेल में होंगे चुनाव, राष्ट्रीय से लेकर राज्यस्तर तक के नेताओं ने शुरू की लॉबिंग, राजस्थान, एमपी, छत्तीसगढ़ से अधिक

शादाब अहमद / नई दिल्ली। राज्यसभा के 51 सदस्यों का कार्यकाल अप्रेल में समाप्त हो रहा है। इनमें राजस्थान, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र और झारखंड में कांग्रेस के सत्ता में आने के बाद राज्यसभा में जाने के लिए नेताओं में होड़ शुरू हो गई है। इन चारों राज्यों से राष्ट्रीय के साथ राज्य स्तर के नेताओं ने लॉबिंग शुरू कर दी है। इन राज्यों से करीब 7 सीट पर कांग्रेस की जीत तय है।

लोकसभा चुनाव में दिग्गजों के चुनाव हारने के बाद अब उन्होंने राज्यसभा में जाने की कोशिश तेज कर दी है। इसके साथ ही पांच राज्यों में कांग्रेस को सत्ता में वापस लाने में भूमिका निभाने वाले प्रदेश प्रभारी भी राज्यसभा जाने के इच्छुक दिख रहे हैं। जबकि प्रदेश स्तर के नेता भी संगठन का काम करने के बदले राज्यसभा सदस्य के रूप में पुरस्कार मिलने का सपना संजोय बैठे हैं। ऐसे में कांग्रेस में राज्यसभा उम्मीदवार चयन आसान नहीं है। वहीं राज्यसभा में कांग्रेस के सदस्यों की संख्या इस बार कुछ बढ़ेगी। कांग्रेस अच्छे वक्ताओं और मुद्दों पर पकड़ रखने वाले नेताओं को राज्यसभा भेजकर सरकार को घेरने की रणनीति पर काम कर रही है।

-महासचिव से लेकर प्रवक्ता तक दौड़ में
राजस्थान के प्रभारी महासचिव अविनाश पांडे, महाराष्ट्र के प्रभारी मलिक्कार्जुन खडग़े, महासचिव मुकुल वासनिक, ज्योतिरादित्य सिंधिया, झारखंड प्रभारी आरपीएन सिंह, पूर्व मंत्री जितेन्द्र सिंह, प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला, गौरव वल्लभ और जितिन प्रसाद के अलावा पूर्व मुख्यमंत्री सुशील कुमार शिंदे समेत कई अन्य राष्ट्रीय नेता किसी न किसी राज्य से राज्यसभा जाने की दौड़ में है। इसके अलावा मध्यप्रदेश से दिग्विजय सिंह और हरियाणा से कुमारी शैलजा का कार्यकाल भी समाप्त हो रहा है। दोनों को पार्टी फिर से राज्यसभा भेज सकती है। इनमें से कुछ नेताओं को जून व उसके बाद अगले साल होने वाले राज्यसभा चुनाव तक इंतजार करने के लिए भी कहा जा सकता है।

-राज्यों में गुटबाजी
राजस्थान और एमपी में कांग्रेस में गुटबाजी काफी है। इसके अलावा महाराष्ट्र में एक सीट पर कांग्रेस की जीत तय है। ऐसे में वहां से स्थानीय नेता का राज्यसभा उम्मीदवार का चयन करने में खासी मशक्कत होगी।

प्रियंका को लेकर अटकलें
कांग्रेस महासचिव व यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी को राज्यसभा में भेजने की अटकलें भी तेज है। सूत्रों का कहना है कि प्रियंका तीखे तेवर से भाजपा की केन्द्र और यूपी सरकार को घेर रही है। राज्यसभा में जाने से कांग्रेस के भाजपा पर आक्रमण को धार मिलेगी। वहीं पार्टी नेताओं को एसपीजी सुरक्षा हटने के बाद केन्द्र सरकार के उनसे सरकारी बंगले के कभी भी वापस लेने की आशंका है। ऐसे में उन्हें राजस्थान, छत्तीसगढ़ या किसी अन्य राज्य से राज्यसभा भेजने की कोशिश भी हो रही है।

-फैक्ट फाइल-
कांग्रेस शासित प्रदेश
प्रदेश --------- खाली होंगी सीट ------- जीत की संभावना
राजस्थान ---------- 3 --------------------- 2
एमपी -------------- 3 --------------------- 2
छत्तीसगढ़ --------- 2 --------------------- 2
महाराष्ट्र ------------ 7 --------------------- 1

Show More
pushpendra shekhawat Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned