जैसलमेर के आगे पाकिस्तान, फिर कहां जाएंगे विधायक-पूनियां

विधानसभा का सत्र 14 अगस्त से शुरू होगा। ऐसे में विधायकों को टूटने से बचाने के लिए सरकार और सख्त नजर आ रही है। सरकार ने सभी विधायकों को जैसलमेर के एक रिसोर्ट में शिफ्ट कर दिया है। अब सभी विधायक सत्र शुरू होने तक इसी रिसोर्ट में रहेंगे। सरकार के इस निर्णय को लेकर भाजपा हमलावर हो गई है।

By: Umesh Sharma

Published: 31 Jul 2020, 05:10 PM IST

जयपुर।

विधानसभा का सत्र 14 अगस्त से शुरू होगा। ऐसे में विधायकों को टूटने से बचाने के लिए सरकार और सख्त नजर आ रही है। सरकार ने सभी विधायकों को जैसलमेर के एक रिसोर्ट में शिफ्ट कर दिया है। अब सभी विधायक सत्र शुरू होने तक इसी रिसोर्ट में रहेंगे। सरकार के इस निर्णय को लेकर भाजपा हमलावर हो गई है।

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां ने कहा है कि जैसलमेर के आगे पाकिस्तान है और इधर गुजरात है। इसके बाद कहां जाएंगे। सरकार में भय नहीं है तो बाड़ा खोले। विधायक परेशान हो रहे हैं, उनके परिवारजन परेशान हो रहे हैं। उन्होंने अब तक तो कोई दुखी आदमी फेयरमोंट पैदल भी परेशानी झेलकर जा सकता था, लेकिन अब वह सरकार को जैसलमेर में कहां ढूंढेगा।

गांधीजी तो खत्म नहीं कर पाए, मगर गहलोत....

विधानसभा सत्र को लेकर पूनियां ने कहा कि पिछले दो सत्र से विपक्ष के आगे सरकार घुटनों के बल थी और अब तो ये सामना नहीं कर पाएंगे। ऐसे में लीपापोती की जाएगी। पूनियां ने दावा किया कि वर्तमान सियासी घटनाक्रम में जो दृश्य राजस्थान में बना है। यह कांग्रेस और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के लिए आत्मघाती है। उन्होंने कहा कि गांधीजी तो कांग्रेस को खत्म नहीं कर पाए थे, लेकिन अब मुख्यमंत्री के आचरण से लग रहा है कि वे जरूर कांग्रेस को खत्म कर देंगे।

तानाशाही कर रहे हैं सीएम

पूनियां ने कहा कि राजस्थान में गवर्नेंस जीरो स्तर पर है। मुख्यमंत्री तानाशाही कर रहे हैं। देश में पला उदाहरण है जब एक मुख्यमंत्री के कारण पूरी पार्टी और सरकार संकट में नजर आ रही है। युवा पीढ़ी को पार्टी में दरकिनार किया जा रहा है।

Umesh Sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned