प्रदेश स्तर की नियुक्तियों पर सभी की निगाहें

 

-लोकसभा और विस चुनाव लड़ चुके प्रत्याशियों से लेकर कई विधायक भी हैं कतार में

By: Ashwani Kumar

Published: 30 Jun 2020, 05:35 PM IST

जयपुर.राज्यसभा चुनाव के बाद राजनीतिक नियुक्तियों का दौर शुरू हो गया है। जिला स्तर और निकाय स्तर पर पार्टी के काम करने वाले कार्यकर्ताओं को ध्यान रखा जा रहा है। राज्यभर में 10 हजार से अधिक राजनीतिक नियुक्तियां होनी हैं। वहीं, प्रदेश भर में करीब 70 राजनीतिक नियुक्तियों पर मुहर लगनी है। इनमें आयोग और निगमों में अध्यक्षों की करीब 60 नियुक्तियां और राज्य के विभिन्न नगर विकास, न्यास में भी करीब 10 नियुक्तियां होनी हैं। इन पदों के लिए लोकसभा और विधानसभा चुनाव लड़ चुके प्रत्याशियों से लेकर कई विधायक भी कतार में हैं। वहीं, कुछ लोग ऐसे भी रेस में हैं जो पिछली कांग्रेस सरकार में राजनीतिक नियुक्ति का लाभ ले चुके हैं।
खुद पार्टी के मुखिया सचिन पायलट कह चुके हैं कि जिन कार्यकर्ताओं ने विपक्ष में रहते हुए पार्टी के लिए दिन रात एक किया। उनको नियुक्ति के माध्यम से या फिर पार्टी व सरकार में भागीदारी के माध्यम से सम्मान दिलाना मेरी प्राथमिकता रहेगी।

विधायकों की उम्मीद कम
मंंत्रिमंडल में सीमित जगह होने की वजह से कई विधायक राजनीतिक नियुक्ति के जरिए अपना कद बढ़ाने की उम्मीद में हैं, लेकिन कांग्रेस सरकार के पिछले कार्यकाल को देखें तो एक भी विधायक को राजनीतिक नियुक्ति नहीं दी गई। विस चुनाव में हारे हुए प्रत्याशियों के अलावा कार्यकर्ताओं को पार्टी ने प्राथमिकता दी।

समन्वय समिति करेगी निर्णय
सत्ता और संगठन के बीच सांमजस्य के लिए बनाई गई समन्वय समिति की जल्द बैठक होगी। इसमें नामों की चर्चा से लेकर सूची तैयार की जाएगी। आठ सदस्यीस समिति की अब तक एक ही बैठक हुई है। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पदाधिकारियों की मानें तो जिला और ब्लॉक स्तर पर होने वाली राजनीतिक नियुक्तियों के लिए प्रभारी मंत्री, जिलाध्यक्ष, विधायक और विधानसभा चुनाव लड़ चुके प्रत्याशी को जिम्मेदारी दी गई थी। कई जिलों से नाम आ भी गए हैं।

देरी का नुकसान भी
राजनीतिक नियुक्तियों का कार्यकाल तीन साल का होता है। ऐसे में यदि राज्य में कांग्रेस सरकार के बनते ही नियुक्तियां हो जातीं तो दो बार कार्यकर्ताओं को लाभ मिलता। इस तरह 20 हजार से अधिक कार्यकर्ताओं को समायोजित किया जा सकता था। डेढ़ साल बीत जाने के बाद अब तक राजनीतिक नियुक्तियां अधर में हैं।

Ashwani Kumar Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned