कांग्रेस रैली के लिए नेताओं पर निगाहें, ​बतानी होगी कार्यकर्ताओं की संख्या

मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों के विरोध में कांग्रेस की ओर से नई दिल्ली में 14 दिसंबर को देश बचाओ रैली का आयोजन किया जा रहा है। राजस्थान में भी इस रैली के लिए तैयारियां शुरू कर दी गई है। राजस्थान को 50 हजार कार्यकर्ताओं का लक्ष्य दिया गया है।

By: rahul

Published: 03 Dec 2019, 12:27 PM IST

जयपुर 3 दिसंबर
मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों के विरोध में कांग्रेस की ओर से नई दिल्ली में 14 दिसंबर को देश बचाओ रैली का आयोजन किया जा रहा है। राजस्थान में भी इस रैली के लिए तैयारियां शुरू कर दी गई है। राजस्थान को 50 हजार कार्यकर्ताओं का लक्ष्य दिया गया है।

प्रभारी मंत्रियों और प्रभारी पदाधिकारियों को निर्देश दिए है कि वे अपने अपने प्रभार वाले जिलों में जाकर जिला कांग्रेस कमेटियों की बैठकें लें और उन्हें ज्यादा से ज्यादा कार्यकर्ता लाने का टारगेट दिया जाए। बैठकें आज से शुरू हो जाएंगी और सभी को 5 दिसंबर तक बैठक करके रिपोर्ट पेश करनी हैं।

इस रिपोर्ट में कौनसा नेता कितनी भीड़ लेकर आएगा इसका विवरण रखना होगा। साथ ही जयपुर— दिल्ली रोड पर शाहजहापुंर बार्डर के पास एक चैक पोस्ट और कंट्रोल रूम भी बनाया जाएगा। इसमें जयपुर और आसपास के जिलों से जाने वाली बसें रूकेंगी और सभी नेताओं को कार्यकर्ताओं की संख्या भी बतानी होगी। गाडी के नंबर भी चैक पोस्ट पर लिखे जाएंगे। इस रैली में भीड़ लाने की ज्यादा जिम्मेदारी जयपुर, अलवर, सीकर, झुंझुनूं, दौसा, भरतपुर को दी गई है बाकी के जिले भी अपने अपने हिसाब से कार्यकर्ता लेकर आएंगे।

दिल्ली से दूर वाले जिलों के नेताओं को निर्देश दिए गए हैं कि वे रेल से दिल्ली पहुंचे ताकि उन्हें परेशानी न हों। रैली को लेकर रविवार को मुख्यमंत्री आवास पर अहम बैठक हुई थी जिसमें प्रभारी मंत्रियों और संगठन पदाधिकारियों की जिम्मेदारियां तय की गई थी। बैठक में सीएम गहलोत ने कहा था वे रैली की मॉनीटरिंग खुद करेंगे और देखेंगे कि किस जिले और ब्लाक से कितने कार्यकर्ता रैली में जा रहे है। ऐसे में नेता कोई भी चूक नहीं करना चाहते है।

rahul Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned