राफेल पर कांग्रेस का मोदी सरकार पर वार

firoz shaifi | Publish: Sep, 04 2018 02:42:21 PM (IST) Jaipur, Rajasthan, India

भूपेंद्र हुड्डा और सचिन पायलट ने लगाए आरोप

जयपुर। वरिष्ठ कांग्रेस नेता और हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने राफेल डील मामले में बड़े घोटाले का आरोप लगाते हुए मोदी सरकार को जमकर घेरा। प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में आयोजित प्रेसवार्ता में भूपेंद्र हुड्डा ने आरोप लगाया कि मोदी सरकार ने एक पूंजीपति को फायदा पहुंचाने के लिए नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए टेंडर जारी कर दिया। हुड्डा ने यह भी आरोप लगाया कि राफेल डील में 1 लाख 36 हजार करोड़ का घोटाला है।


प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट ने कहा कि कांग्रेस का मानना है कि सुरक्षा से समझौता नहीं होना चाहिए। इसलिए सरकार विमान की तकनीक सार्वजनिक ना करें, लेकिन इसकी कीमत सार्वजनिक कर ही सकती है। उन्होंने कहा कि अगर सरकार ने राफेल डील में किसी प्रकार का घोटाला नहीं किया है तो सरकार इसकी जांच के लिए जेपीसी क्यों नहीं कराई जा रही है। पायलट ने आगे कहा कि कांग्रेस सरकार से इसके जवाब के लिए देशभर में आंदोलन चलाएगी।


हरियाणा में नहीं हुआ जमीन घोटाला, एफआईआर राजनीति से प्रेरित
हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हु़ड्डा ने कहा है कि उन्होंने हरियाणा में एक इंच भी जमीन नहीं खरीदी है और हरियाणा में उनके मुख्यमंत्री के कार्यकाल में कोई भी जमीन घोटाला नहीं हुआ हुड़्डा ने कहा हरियाणा की भाजपा सरकार राजनीतिक प्रतिशोध की भावना से कार्य कर रही है।उन्होंने कहा कि दस साल तक वह हरियाणा के मुख्यमंत्री रहे है, लेकिन एक भी राजनीतिक प्रतिशोध की भावना से उन्होंने कोई कार्य नहीं किया।

हुड्‌डा ने कहा कि हरियाणा की मनोहर लाल सरकार ने जमीन घोटालों की जांच के लिए एक आयोग बना रखा है और उस आयोग की रिपोर्ट आने से पहले ही गुरुग्राम जमीन घोटाले में राबर्ड वाड्रा और उनके नाम से एफआईआर दर्ज करवा दी गई है, यह एफआईआर एक प्राइ‌वेट व्यक्ति ने दर्ज करवाई है।

हुड्‌डा ने कहा कि इस पूरे मामले में हरियाणा की भाजपा सरकार पर्दे के पीछे से कार्य कर रही है और राफेल डील के मुद्दे से जनता का ध्यान हटाने के लिए यह कार्रवाई की गई है। हुड़्डा ने कहा कि केंद्र सरकार को राफेल डील के मामले की जांच के लिए जेपीसी का गठन करना चाहिए, जिससे देश की जनता के सामने राफेल डील का सच सामने आ सके।

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned