scriptCongress wants to break the losing streak in Lok Sabha elections | लोकसभा चुनाव में हार का क्रम तोड़ना चाहती है कांग्रेस, दिग्गजों को उतारेगी मैदान में | Patrika News

लोकसभा चुनाव में हार का क्रम तोड़ना चाहती है कांग्रेस, दिग्गजों को उतारेगी मैदान में

locationजयपुरPublished: Dec 24, 2023 09:15:05 pm

Submitted by:

firoz shaifi

नए साल की शुरुआत से ही लोकसभा चुनाव की तैयारी को लेकर कांग्रेस में संगठनात्मक गतिविधियां तेज हो जाएंगी।

 

88888.jpg

फिरोज सैफी/ जयपुर।

पिछले दो लोकसभा चुनाव से प्रदेश की 25 सीटों पर हार का सामना कर रही कांग्रेस इस बार 5 माह के बाद होने वाले लोकसभा चुनाव में हार का क्रम तोड़ने की जद्दोजहद सहित में जुटी हुई है। इसके लिए कांग्रेस थिंक टैंक एक खास रणनीति पर काम कर रहा है। सूत्रों की मानें तो कांग्रेस थिंक टैंक लोकसभा चुनाव में अपने बड़े नेताओं को उतारने की तैयारी कर रहा है, जिससे कि चुनाव में भाजपा को कड़ी चुनौती दी जाए।


पार्टी सूत्रों का कहना है कि इस बार विधानसभा चुनाव जीते कई दिग्गज विधायकों को भी चुनाव मैदान में उतारा जा सकता है। इसके अलावा विधानसभा चुनाव हारे कई पूर्व मंत्रियों को भी लोकसभा चुनाव जाने को लेकर पार्टी में मंथन हो रहा है। बताया जा रहा है कि नए साल की शुरुआत से ही लोकसभा चुनाव की तैयारी को लेकर कांग्रेस में संगठनात्मक गतिविधियां तेज हो जाएंगी।

कांग्रेस में इन नेताओं को लोकसभा चुनाव लड़ाए जाने की चर्चा
सूत्रों की मानें तो कांग्रेस में जिन नेताओं को लोकसभा चुनाव लड़ाए जाने की चर्चा है। उनमें पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा, पूर्व मंत्री हरीश चौधरी, महेंद्र जीत सिंह मालवीय, अशोक चांदना, मुरारी लाल मीणा, प्रमोद जैन भाया, हरीश मीणा, बृजेंद्र ओला, श्रवण कुमार को चुनाव लड़ाने पर मंथन चल रहा है।

बताया जा रहा है कि प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष और लक्ष्मणगढ़ से लगातार चौथी बार चुनाव जीते गोविंद सिंह डोटासरा को सीकर से चुनाव लड़ाया जा सकता है। वहीं बायतु से विधायक हरीश चौधरी को जैसलमेर-बाड़मेर से चुनाव मैदान में लड़ाया जा सकता है। हरीश चौधरी पूर्व में यहां से सांसद रह चुके हैं। कांग्रेस वर्किंग कमेटी के सदस्य और बागीदौरा से लगातार चौथी बार चुनाव जीते महेंद्रजीत सिंह मालवीय को भी आदिवासी अंचल की बांसवाड़ा-डूंगरपुर सीट से चुनाव लड़ाने को लेकर मंथन चल रहा है।

भीलवाड़ा की हिंडोली से लगातार तीसरी बार विधायक चुने गए अशोक चांदना को भी भीलवाड़ा से लोकसभा का चुनाव लड़ाए जाने की चर्चा है। 2014 के लोकसभा चुनाव में भी चांदना भीलवाड़ा से लोकसभा चुनाव लड़ चुके हैं। दौसा से लगातार दूसरी बार विधायक चुने गए मुरारी लाल मीणा को भी दौसा लोकसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ाए जाने की चर्चा है। मुरारी लाल मीणा को सचिन पायलट का करीबी माना जाता है। पायलट परिवार का लंबे समय तक दौसा पर दबदबा रहा है।

गहलोत सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे और इस बार अंता से चुनाव हारे प्रमोद जैन भाया को भी झालावाड़ से चुनाव मैदान में उतारा जा सकता है। देवली उनियारा से लगातार दूसरी बार विधायक चुने गए हरीश मीणा को टोंक-सवाईमाधोपुर से चुनाव लड़ाया जा सकता है। मीणा 2014 में भाजपा के टिकट पर दौसा से सांसद रह चुके हैं।

वहीं झुंझुनूं से लगातार चुनाव विधायक चुने जा रहे बृजेंद्र ओला और सूरजगढ़ से विधायक श्रवण कुमार में से किसी एक को झुंझुनूं से लोकसभा चुनाव लड़ाया जा सकता है। बृजेंद्र ओला के पिता शीशराम ओला पांच बार झुंझुनूं से सांसद रह चुके हैं।

वीडियो देखेंः- ElectionResultsLIVE : 4 राज्यों में भाजपा कांग्रेस में से कौन आगे

ट्रेंडिंग वीडियो