scriptCongress will face many major challenges in the new year | विजन 2022ः खत्म नहीं हुई कांग्रेस की टेंशन, गुटबाजी-नाराजगी बड़ी चुनौती | Patrika News

विजन 2022ः खत्म नहीं हुई कांग्रेस की टेंशन, गुटबाजी-नाराजगी बड़ी चुनौती

जनीतिक नियुक्तियां, गुटबाजी, संगठन विस्तार, विधायकों की नाराजगी जैसी चुनौतियों का सामना करना है प्रदेश कांग्रेस को,चौथे साल में विपक्ष के भी तेज होंगे हमले

जयपुर

Published: December 31, 2021 11:48:28 am

जयपुर। साल 2021 भले ही प्रदेश कांग्रेस के लिए बेहतर रहा हो लेकिन साल 2022 प्रदेश कांग्रेस के लिए चुनौतियों से भरा हुआ है। कई ऐसी प्रमुख चुनौतियां हैं जिनका सामना करना प्रदेश कांग्रेस के लिए आसान नहीं होगा। हालांकि प्रदेश कांग्रेस मिशन 2023 को लेकर तैयारियों में जुटी हो, लेकिन उन्हें सबसे पहले उन चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है जो अभी भी प्रदेश कांग्रेस के समक्ष टिकी हुई है। उनका समाधान किए बगैर साल 2023 के विधानसभा चुनाव की तैयारी बेमानी होगा। प्रदेश कांग्रेस के सामने तकरीबन आधा दर्जन प्रमुख समस्याएं हैं जिनका समाधान उसे इसी साल करना होगा।
pcc jaipur
pcc jaipur
प्रदेश कांग्रेस के सामने यह है प्रमुख चुनौतियां


राजनीतिक नियुक्तियां
प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा और पीसीसी के समक्ष सबसे बड़ी चुनौती राजनीतिक नियुक्तियां हैं। कांग्रेस कार्यकर्ता तीन साल से राज्य नियुक्तियों का इंतजार कर रहे हैं, लेकिन कार्यकर्ताओं को राजनीतिक नियुक्तियों में एडजस्ट नहीं किया गया। अब नए साल में राजनीतिक नियुक्तियां करने की बात की जा रही है, लेकिन बड़ी बात यह है कि जिन कार्यकर्ताओं और नेताओं के नंबर राजनीतिक नियुक्तियों में नहीं लग पाएंगे। उन कार्यकर्ताओं और नेताओं को प्रदेश कांग्रेस की ओर से किस प्रकार संतुष्ट किया जाएगा यह अपने आप में एक बड़ी चुनौती प्रदेश कांग्रेस के सामने होगी?
संगठन विस्तार
प्रदेश कांग्रेस के सामने संगठन विस्तार भी एक बड़ी चुनौती है। कांग्रेस को अगर 2023 में विधानसभा चुनाव की तैयारियों में अभी से ही जुटना है तो सबसे पहले संगठन को मजबूत करना पड़ेगा, लेकिन बड़ी बात यह कि प्रदेश कांग्रेस के तमाम विभाग-प्रकोष्ठ, ब्लॉक और जिलाध्यक्षों की कार्यकारिणी भंग पड़ी है।
प्रदेश कांग्रेस में अभी 39 सदस्य प्रदेश कार्यकारिणी और 13 जिलाध्यक्षों की नियुक्ति हुई है। ऐसे में पार्टी के सामने 42 जिला अध्यक्षों, 400 ब्लॉक अध्यक्ष, जिलों की कार्यकारिणी, विभिन्न विभाग प्रकोष्ठ में नियुक्तियां जैसे काम करने होंगे। ऐसे में प्रदेश कांग्रेस के सामने संगठन विस्तार भी एक बड़ी चुनौती है कि सभी दलों के नेताओं और कार्यकर्ताओं को संगठन विस्तार में इस प्रकार से एडजस्ट किया जाए।
गुटबाजी
साल 2023 के विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जुटी प्रदेश कांग्रेस के लिए साल 2022 में गुटबाजी दूर करना अपने आप में एक बड़ी चुनौती होगी। प्रदेश में भले ही मंत्रिमंडल पुनर्गठन के बाद कांग्रेस में गुटबाजी खत्म करने के दावे किए जा रहे हैं लेकिन गहलोत-पायलट गुट के अलावा अन्य धड़ों के नेता भी एक दूसरे के खिलाफ बयानबाजी करने से परहेज नहीं करते हैं। कई बार ऐसी स्थिति बन जाती है कि बयानबाजी के चलते पार्टी की शर्मिंदगी भी होती है। ऐसे में प्रदेश कांग्रेस के सामने चुनौती यही है कि वे किस प्रकार गुटबाजी को खत्म करके सभी दलों के नेताओं को एक मंच पर एकजुट करके चुनाव के लिए तैयार करें।
विधायकों की नाराजगी भी बड़ी चुनौती
इधर प्रदेश कांग्रेस और सरकार के लिए विधायकों की नाराजगी भी एक बड़ी चुनौती है, जिससे पार पाना प्रदेश कांग्रेस और सरकार के दोनों के लिए आसान नहीं है। मंत्रिमंडल पुनर्गठन में अपना नंबर नहीं आने से सरकार को समर्थन दे रहे कई निर्दलीय और बसपा से कांग्रेस में आए विधायकों की नाराजगी खुलकर सामने आ चुकी है। वहीं प्रदेश कांग्रेस के भी कई विधायक अंदर खाने अपनी नाराजगी जता चुके हैं।
सत्ता और संगठन को इस बात की चिंता है कि आने वाले विधानसभा बजट सेशन में विधायकों की नाराजगी का सामना सरकार को सदन में नहीं करना पड़े। ऐसे में विधायकों की नाराजगी किस प्रकार से दूर की जाए यह भी अपने आप एक बड़ी चुनौती है।
हालांकि प्रदेश प्रभारी अजय माकन और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की तरफ से संकेत दिए गए हैं कि मई-जून के बीच फिर से मंत्रिमंडल विस्तार हो सकता है जिसमें नए और पुराने चेहरों को मंत्रिमंडल में मौका मिल सकता है लेकिन चुनौती यहां भी है कि जिन चेहरों को मंत्रिमंडल से बाहर किया जाएगा उनकी नाराजगी भी सत्ता और संगठन को झेलनी पड़ेगी।
विपक्ष के भी तेज होंगे हमले
वहीं साल 2022 में प्रदेश में प्रमुख विपक्षी दल भाजपा भी 2023 की चुनावी तैयारियों में जुट जाएगी। इसी के चलते भाजपा भी प्रदेश कांग्रेस और गहलोत सरकार पर हमले तेज करने का कोई मौका नहीं छोड़ेगी। सड़क से लेकर सदन तक भाजपा की ओर से सत्तारूढ़ कांग्रेस को घेरा जाएगा। ऐसे में में प्रदेश कांग्रेस के सामने भी चुनौती है कि वे भाजपा के हमलों का किस प्रकार से जवाब देगी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

देश में वैक्‍सीनेशन की रफ्तार हुई और तेज, आंकड़ा पहुंचा 160 करोड़ के पारपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलजम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू आया गिरफ्त मेंCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे के भीतर आए कोरोना के 12306 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 21.48%घर खरीदारों को बड़ा झटका, साल 2022 में 30% बढ़ेंगे मकान-फ्लैट के दाम, जानिए क्या है वजहचुनावी तैयारी में भाजपा: पीएम मोदी 25 को पेज समिति सदस्यों में भरेंगे जोशखाताधारकों के अधूरे पतों ने डाक विभाग को उलझायाकोरोना महामारी का कहर गुजरात में अब एक्टिव मरीज एक लाख के पार, कुल केस 1000000 से अधिक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.