कांग्रेस भाजपा के इस गढ से बजाएगी चुनावी बिगुल, यहां एक को छोड़ सभी सीटों पर है भाजपा काबिज

pushpendra shekhawat

Publish: Apr, 17 2018 11:14:56 PM (IST)

Jaipur, Rajasthan, India
कांग्रेस भाजपा के इस गढ से बजाएगी चुनावी बिगुल, यहां एक को छोड़ सभी सीटों पर है भाजपा काबिज

यहीं मुख्यमंत्री व उनके पुत्र का निर्वाचन क्षेत्र

सुनील सिंह सिसोदिया / जयपुर। प्रदेश में छह माह बाद होने वाले विधानसभा चुनावों में कांग्रेस पार्टी का इस बार हाड़ोती में विशेष फोकस रहेगा। कोटा संभाग मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और उनके पुत्र दुष्यंत सिंह का निर्वाचन क्षेत्र भी है। ऐसे में कांग्रेस ने चुनावी बिगुल बजाने के लिए इसी संभाग को चुना है। वैसे भी हाड़ोती में भाजपा के सहयोगी माने जाने वाले राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की पकड़ मजबूत होने के चलते कांग्रेस ने यहां तैयारी को लेकर ज्यादा ध्यान दिया है। कोटा संभाग से 23 अप्रेल को कांग्रेस का मेरा बूथ-मेरा गौरव अभियान शुरू होगा। इसमें बड़ी संख्या में लोगों को बुलाया जा रहा है।

 

हाड़ोती संभाग में एक विधानसभा सीट को छोड़ लगभग सभी भाजपा के पास हैं। ऐसे में इस बार यहां कांग्रेस पार्टी भाजपा को कड़ी टक्कर देने के लिए मशक्कत में जुटी है। आरएसएस का इस इलाके में ज्यादा प्रभाव होने से भाजपा के कई दिग्गज नेता इस क्षेत्र से भाजपा में बड़े पदों पर सक्रिय रहे हैं। इनमें रघुवीर सिंह कौशल, ललित किशोर चतुर्वेदी, हरिकुमार औदिच्य के अलावा मदन दिलावर का प्रमुख नाम है। वहीं कांग्रेस पार्टी के बड़े नेता में इस क्षेत्र से जुझार सिंह, रिखबचंद और शांति धारीवाल के प्रमुख नाम हैं।

 

हमेशा रहा कांग्रेस का गढ़, लेकिन अब हिल रहा वोटर...
मेवाड़ के रूप में पहचान रखने वाले उदयपुर संभाग का कहीं मजबूत वोट बैंक रहा आदिवासी क्षेत्र पिछले कुछ चुनावों से हिल रहा है। ऐसे में इस बार सत्ता में काबिज होने के लिए कांग्रेस पार्टी आदिवासी वोट बैंक को लेकर भी अलग से रणनीति बना रही है। यही कारण है कि कोटा संभाग के कार्यक्रम के तीन दिन बाद कांग्रेस उदयपुर संभाग में बड़ा कार्यक्रम करने में जुट गई है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं की मानें तो यहां भी आदिवासी वोट बैंक को अपने पक्ष में करने के लिए भाजपा के सहयोग माने जाने वाले आरएसएस की ओर से वनवासी परिषद सहित कई संगठन काम कर रहे हैं। इसको देखते हुए कांग्रेस भी अलग से रणनीति पर मंथन कर रही है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned