कांस्टेबल भर्ती 2018 परीक्षा को लेकर हुआ ये बड़ा खुलासा, रद्द हो सकती है परीक्षा

राजस्थान पुलिस कांस्टेबल भर्ती 2017 परीक्षा में सरस्वती इंफोटेक के संचालकों ने तीन दिन तक परीक्षा केन्द्र पर नकल करवाई ।

By: rajesh walia

Published: 13 Mar 2018, 11:12 PM IST

जयपुर

राजस्थान पुलिस की विशेष एसओजी टीम ने कांस्टेबल भर्ती परीक्षा में नकल कराने वाले गिरोह का पर्दाफाश कर परीक्षा केन्द्र संचालक सहित 6 लोगों को गिरफ्तार किया था। अब इस मामले में एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि संचालकों ने तीन दिन तक केंद्र पर नक़ल करवा कर इस अपराध को अंजाम दिया।

राजस्थान पुलिस कांस्टेबल भर्ती 2017 परीक्षा में सरस्वती इंफोटेक के संचालकों ने तीन दिन तक परीक्षा केन्द्र पर नकल करवाई है। एसओजी ने सोमवार को नागौर के परीक्षार्थी सहित दिल्ली के दलाल को गिरफ्तार किया है। पुलिस की पूछताछ में सामने आया है कि कांस्टेबल भर्ती परीक्षा में सभी पेपरों में पास करवाने के बदले आरोपियों ने 5 से 7.50 लाख रुपए में सौदा तय किया था।


ऐसे तैयार हुई नक़ल की योजना

एसओजी के आईजी दिनेश एमएन ने बताया कि इस परीक्षा केन्द्र पर 8 से 10 मार्च तक हुई परीक्षा में 12 परीक्षार्थियों को नकल कराने की जानकारी सामने आई है। 7 मार्च को परीक्षा केन्द्र के संचालकों ने सभी कम्प्यूटरों को केबल से जोड़ा और छत तक उसे ले जाकर राउटर से जोड़ दिया। लेकिन केबल देख वहां उपस्थित लोगों ने उसकी जानकारी की तो उन्होंने केबल को वहां से हटा दिया।

वहां से केबल हटाए बाद उन्होंने फिर से छत आ रहे पानी के पाइप में केबल डाल दी और पाइप को दीवार में ड्रिल मशीन के से छेद करते हुए छिपाते हुए कम्प्यूटरों से जोड़ दिया था। संचालक इस परीक्षा के लिए पहले से तैयार थे।


हरियाणा और दिल्ली में नकल के लिए लड़कों की होती थी तलाश

सोमवार को पुलिस ने गिरफ्तार किए गए नागौर के छात्र रामदेव खींचड़ ने बताया कि वह डेगाना की उत्तम कोचिंग में प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी करने गया था। वहीं उसने नक़ल के लिए सौदा तय किया था।

सरस्वती इंफोटेक के संचालक विकास मलिक ने पूछताछ में बताया कि उसके साझेदार फरार हुए संचालक मुखतियार व कपिल नकल के लिए कोचिंग व दलालों के संपर्क में थे। सोमवार को दिल्ली निवासी दलाल राजीव डबास को भी गिरफ्तार किया गया। राजीव डबास एक से दो लाख रुपए लेकर नकल के लिए कोचिंग संचालकों को लड़के उपलब्ध करवाता था। वह हरियाणा और दिल्ली में नकल के लिए लड़के तलाशता है।


अन्य केन्द्रों पर भी नकल की संभावना

एसओजी पड़ताल कर रही है कि सरस्वती इंफोटेक संचालकों ने राजस्थान में कहां-कहां परीक्षा कराने का ठेका लिया है और कहां-कहां उसकी साझेदारी है। इस मामले के सामने आने के बाद एसओजी सहित राजस्थान पुलिस ने अब सभी परीक्षा केन्द्रों को अपनी निगरानी में ले लिया है।


जयपुर में घूम रहे दिल्ली-हरियाणा के दलाल

कुछ छात्रों ने बताया है कि जयपुर में परीक्षा केन्द्रों के आस-पास दिल्ली और हरियाणा के दलाल नकल के लिए अभ्यर्थियों की तलाश में घूम रहे हैं। परीक्षा पास कराने के बदले 5 लाख रुपए मांगे जा रहे हैं।


रद्द भी हो सकती है परीक्षा

पुलिस मुख्यालय के आईजी हैड क्वार्टर संजीव नार्जरी ने बताया कि एसओजी की जांच पूरी होने के बाद नियमानुसार परीक्षा को लेकर कार्रवाई की जाएगी। अगर नकल के मामले अधिक सामने आए तो पेपर रद्द भी किए जा सकते है।

rajesh walia Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned