डायल करने पर नहीं मिल रहा कंट्रोल रूम का नंबर


वन विभाग ने आज ही जारी किया था 07462-220530 नंबर
अवांछित गतिविधियों की सूचना एवं वन्यजीवों के रेस्क्यू के लिए कैसे होगा सम्पर्क

By: Rakhi Hajela

Published: 08 Dec 2020, 11:07 PM IST

रणथंभौर में लगातार बढ़ रही शिकार की घटनाओं को देखते हुए वन विभाग ने रणथंभौर में कंट्रोल रूम स्थापित कर उसका नंबर तो जारी कर दिया लेकिन डायल करने पर यह नंबर मिलता ही नहीं है। गौरतलब है कि रणथंभौर प्रशासन, वन और वन्यजीवों की सुरक्षा व्यवस्था को पुख्ता करने के लिए मंगलवार को फील्ड डायरेक्टर टीसी वर्मा के निर्देश पर रणथंभौर में वन विभाग का कंट्रोल रूम स्थापित कर एक नंबर 07462-220530 जारी किया गया था लेकिन जब इस नंबर पर कॉल किया जाता है तो कोविड के प्रति जागरुकता का संदेश देने के बाद यह नंबर मिलता ही नहीं है। ऐसे में अवांछित गतिविधियों की सूचना एवं वन्यजीवों के रेस्क्यू के लिए विभाग की ओर से की जा रही कवायद पर ही प्रश्नचिह्न लग गया है। जानकारी के मुताबिक मंगलवार को चीफ वाइल्ड लाइफ वॉर्डन मोहन लाल मीणा ने रणथंभौर, सरिस्का और मुकुंदरा के फील्ड डायरेक्टर्स से शिकारियों की धरपकड़ अभियान की समीक्षा की थी और अभियान को पूरी गंभीरता से लेने और शिकारियों की धरपकड़ करने के निर्देश दिए थे। इतना ही नहीं उन्होंने अभियान की साप्ताहिक रिपोर्ट देने के लिए भी निर्देश दिए थे, लेकिन पहले ही दिन कंट्रोल रूम का नंबर नहीं मिलने से पूरे अभियान पर ही सवाल उठ खड़ा हुआ है।
पहले जारी किया था रेड अलर्ट
उल्लेखनीय है कि वन क्षेत्र में बढ़ती शिकार की घटनाओं को रोकने के लिए विभाग ने तीन दिन पूर्व प्रदेश के सभी टाइगर पार्क, राष्ट्रीय अभ्यारण्यों, वन सरंक्षित क्षेत्रों और वन क्षेत्र में रेड अलर्ट जारी किया था साथ ही सघन तलाशी अभियान चलाए जाने का निर्णय लिया है। इसी प्रक्रिया के तहत रणथंभौर में कंट्रोल रूम स्थापित कर नंबर जारी किया गया था।

Rakhi Hajela Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned