scriptconvocation held# | पैरेंट्स की मौजूदगी में 748 स्टूडेंट्स को मिली डिग्री | Patrika News

पैरेंट्स की मौजूदगी में 748 स्टूडेंट्स को मिली डिग्री

पैरेंट्स की मौजूदगी में डिग्रियां प्राप्त किया जाना स्टूडेंट्स के लिए यादगार पल बन गया। सोमवार को यह अवसर था पूर्णिमा यूनिवर्सिटी की आठवें दीक्षांत समारोह का।

जयपुर

Updated: December 27, 2021 11:22:47 pm


पूर्णिमा यूनिवर्सिटी का आठवां दीक्षांत समारोह आयोजित
जयपुर। पैरेंट्स की मौजूदगी में डिग्रियां प्राप्त किया जाना स्टूडेंट्स के लिए यादगार पल बन गया। सोमवार को यह अवसर था पूर्णिमा यूनिवर्सिटी की आठवें दीक्षांत समारोह का। साउथ वेस्टर्न कमांड के जनरल ऑफिसर कमांडिंग इन चीफ लेफ्टिनेंट जनरल अमरदीप सिंह भिंडर समारोह के मुख्य अतिथि थे। इस दौरान यूनिवर्सिटी के 748 स्टूडेंट्स को डिग्री प्रदान कर सम्मानित किया गया। इनमें 12 पीएचडी, 10 एमटेक, 83 एमबीए, 1 मास्टर ऑफ डिजाइन, 229 बीटेक, 96 बीबीए, 37 बीकॉम, 50 बैचलर ऑफ आर्किटेक्चर, 126 बीसीए, 33 बैचलर ऑफ डिजाइन, 25 बीवॉक, 11 मास्टर ऑफ प्लानिंग और 28 बीएससी की डिग्रियां शामिल थीं। इस अवसर पर यूनिवर्सिटी के चेयरपर्सन शशिकांत सिंघी ने दीक्षांत समारोह की शुरुआत की औपचारिक घोषणा की। इस दौरान पद्मभूषण जतिन दास को पीएचडी की मानद डिग्री से सम्मानित किया गया। अल्पना गुप्ता को चांसलर्स गोल्ड मैडल और रिया धानुका को एसईएस गोल्ड मैडल प्रदान किया गयाए जबकि सौरव साहू ले कॉर्बुजियर गोल्ड मैडल से सम्मानित किया गया। इनके अलावा 24 अन्य एकेडमिक टॉपर्स को गोल्ड व सिल्वर मैडल व कैश प्राइज प्रदान किए गए।
पैरेंट्स की मौजूदगी में 748 स्टूडेंट्स को मिली डिग्री
पैरेंट्स की मौजूदगी में 748 स्टूडेंट्स को मिली डिग्री
राजस्थानी साहित्य,भाषा और लोकगीत है अनुपम: गोपाल कृष्ण व्यास
दो दिवसीय राजस्थानी युवा लेखक महोत्सव का समापन
जयपुर।
राजस्थानी भाषा, साहित्य और लोकगीत अनूठे हैं, अपनत्व और भाव का कोई मुकाबला नहीं है। हमें खुद राजस्थानी का अधिक से अधिक उपयोग करना होगा, तभी राजस्थानी भाषा अपने आप आगे बढ़ेगी। इस भाषा को मान्यता की जरूरत नहीं है, हमारी अपनी भाषा बहुत महान है। यह विचार राज्य मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष गोपाल कृष्ण व्यास ने राजस्थानी युवा लेखक महोत्सव के समापन सत्र को संबोधित करते हुए व्यक्त किए। उन्होंने आगे कई युवा राजस्थानी शोध कार्य कर रहे हैं जो हमारी मातृभाषा के लिए अच्छे भविष्य का संदेश है।
मुख्यमंत्री कार्यालय में विशेष अधिकारी फारुख आफरीदी ने सत्र को संबोधित करते हुए कहा किए राजस्थानी हमारे स्वाभाविक भाषा है यह खुशी की बात है कि नई पीढ़ी अपनी भाषा को अपना रही है।
महोत्सव के दूसरे दिन कमला कमलेश सत्र आयोजित किया गया। इसमें साहित्यकार कुंदन माली, डॉ. हरिमोहन सारस्वत, विमला नागला अपने.अपने विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम का संचालन लेखिका संतोष चौधरी ने किया। इसमें सुमन पडि़हार और डॉ अनीता जैन ने अपने शोध पत्रों का वाचन किया।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ससुराल में इस अक्षर के नाम की लडकियां बरसाती हैं खूब धन-दौलत, किस्मत की धनी इन्हें मिलते हैं सारे सुखGod Power- इन तारीखों में जन्मे लोग पहचानें अपनी छिपी हुई ताकत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेशSharp Brain- दिमाग से बहुत तेज होते हैं इन राशियों की लड़कियां और लड़के, जीवन भर रहता है इस चीज का प्रभावमौसम विभाग का बड़ा अलर्ट जारी, शीतलहर छुड़ाएगी कंपकंपी, पारा सामान्य से 5 डिग्री नीचेइन 4 नाम वाले लोगों को लाइफ में एक बार ही होता है सच्चा प्यार, अपने पार्टनर के दिल पर करते हैं राज

बड़ी खबरें

Corona cases in india: पिछले 24 घंटे में कोरोना के 2.35 लाख केस, 871 की मौत, संक्रमण दर हुई 13.39%UP Assembly Elections 2022: भाजपा ने किसानों से झूठा वादा किया, उन्हें धोखा दिया, प्रेस कांफ्रेंस में बोले अखिलेशदिल्ली में वीकेंड कर्फ्यू खत्म, आज से नई गाइडलाइंस के साथ मेट्रो सेवाएं शुरूउत्तर प्रदेश विधान परिषद चुनाव 2022 की डेट का ऐलान, जानें कितने सीटों के लिए और कब आएगा रिजल्टमुस्लिम वोटों को लुभाने के लिए बसपा ने किया बड़ा खेल, बाकी हैरानखतरनाक साइड इफैक्ट : इलाज के बाद ठीक हुए मरीजों पर आइआइटी का शोध, खराब हो रहे ये अंगओमिक्रॉन के नए वैरिएंट की एंट्री, मरीजों के सैंपल भेजे दिल्ली, 1418 पुलिसवाले भी संक्रमितछत्तीसगढ़ में कोरोना का कहर, 48 घंटे में 30 मरीजों की मौत, सबसे ज्यादा 8 संक्रमितों की मौत दुर्ग में
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.