पांचवीं तक के बच्चों की नहीं होगी परीक्षाएं, एक से आठ तक नए सत्र में पढ़ाया जाएगा पुराना सिलेबस

कोरोना को देखते हुए राज्य सरकार का अहम फैसला, एक से पांचवीं कक्षा के बच्चे अगली कक्षा में होंगे प्रमोट, एक मई से शुरू होंगे नई कक्षाओं में प्रवेश

By: pushpendra shekhawat

Published: 17 Mar 2021, 09:09 PM IST

विजय शर्मा / जयपुर। बढ़ते कोरोना के मामलों को देखते हुए सरकार ने एक से पांचवीं तक के बच्चों की परीक्षाएं नहीं कराने का फैसला लिया है। इन बच्चों को अगली कक्षा में एक अप्रैल से प्रमोट किया जाएगा। वहीं, कक्षा एक से आठवीं तक के बच्चों को नए सत्र के शुरूआती दिनों में बैक टू स्कूल कार्यक्रम के तहत उपचारात्मक शिक्षण कराया जाएगा। यानी नए सत्र में करीब डेढ़ महीने तक बच्चे पुरानी कक्षाओं की पढ़ाई करेंगे। वहीं, एक महीने देरी से एक मई से नई कक्षाओं में प्रवेश प्रक्रिया शुरू की जाएगी।

शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने इसकी घोषणा की। इसके बाद विभाग ने इसके आदेश जारी कर दिए। आदेशों के मुताबिक कोविड-19 के कारण कक्षा 1-5 तक के स्कूल लॉकडाउन के बाद से ही बंद है। ऐसे में सरकार ने अभी इन स्कूलों को खोलने की निर्णय नहीं लिया है। इसके चलते कक्षा एक से पांच तक के विद्यार्थियों को स्‍माईल-1, स्‍माईल-2 और आओ घर से सीखें कार्यक्रम के तहत किए गए आंकलन के आधार पर अगली कक्षा में प्रमोट किया जाएगा। इसके अलावा कक्षा 6 और 7 की परीक्षा 15-22 अप्रैल तक विद्यालय स्‍तर पर होंगी।

कक्षा 9 और 11 की परीक्षा 6 से 22 अप्रैल तक जिला स्तर पर आयोजित की जाएगी। परीक्षाओं का परिणाम 30 अप्रैल को जारी होगा। आगामी सत्र की पढ़ाई एक मई से शुरू की जाएगी। 8 वीं की बोर्ड परीक्षा के लिए पंजीयक शिक्षा विभागीय परीक्षाएं बीकानेर की ओर से अलग से गाइड लाइन जारी की जाएगी।

यह रहेगी कक्षाओं की व्यवस्था
कक्षा 6 और सात : सभी प्रकार के स्कूलों के विद्यार्थियों के लिए परीक्षा 15 अप्रैल से 22 तक स्कूल स्तर पर होगी। विशेष अपरिहार्य कारणों या जिले में स्थानीय अवकाश होने पर परीक्षा का आयोजन 23 या 24 को किया जा सकेगा।


कक्षा 9 ओर 11 : सभी विद्यार्थियों की परीक्षा 6 अप्रैल से 22 तक जिला समान परीक्षा योजना के अंतर्गत होगी। यह परीक्षा जिला स्तर पर आयोजित होगी। कक्षा 11 की प्रायोगिक परीक्षाएं 22 अप्रैल से 24 के मध्य आयोजित की जाएंगी।

कक्षा 6 से 8 और 9 के लिए कला शिक्षा, स्वास्थ्य और शारीरिक शिक्षा तथा समाजोपयोगी उतपादक कार्य और समाजसेवा का आंकलन स्कूल स्तर पर किया जाएगा।


जिन स्कूलों में व्यसायिक शिक्षा, जीवन कौशल, अन्य विषय संचालित हैं, उनकी परीक्षाएं 20 अप्रैल से 24 की समयावधि में कराई जाएंगी।

pushpendra shekhawat Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned