राजस्थान में कोरोनो ब्लास्ट.. जेल से अब तक 200 पॉजिटिव...टेस्ट जारी

Rajasthan Jail News

By: JAYANT SHARMA

Published: 23 May 2020, 12:01 PM IST


जयपुर
20 हजार से भी ज्यादा बंदियों और करीब चार हजार से ज्यादा स्टाफ वाले राजस्थान जेल विभाग में दो ही जेलों से दो सौ से भी ज्यादा बंदी और स्टाफ संक्रमित आया तब जाकर स्वास्थय विभाग को जेलों के लिए गाइड लाइन जारी करने की याद आई है। इस गाइड लाइन को आज से ही लागू कर दिया गया है। शुक्रवार देर शाम इसे लागू किया गया था और आज यह सभी जेलों में पहुंचा दी गई है। इसके आधार पर ही अब बंदियों और जेल स्टाफ को जेलों में एंट्री दी जाएगी अन्यथा उनको बाहर ही अन्य जगहों पर रखा जाएगा। हाल ही में इसी तरह की गाइड लाइन प्रदेश के पुलिस विभाग के लिए भी जारी की गई है।


दो जेल से ही आ चुके दो सौ से ज्यादा संक्रमित
प्रदेश की सबसे बडी जेल जयपुर सेंट्रल जेल और जयपुर जिला जेल से बंदी और स्टाफ संक्रमित आ चुका है। जयपुर जिला जेल से करीब 135 से ज्यादा और जयपुर सेंट्रल जेल से करीब 65 बंदी और स्टाफ संक्रमित आ चुके हैं। सात दिन के दौरान ही यह सब कुछ हुआ है। यहां तक कि जिला जेल के तो अधीक्षक भी संक्रमित हो चुके हैं। ऐसे में अब जेलों में विशेष सावधानी बरती जा रही है। एक बार फिर से जयपुर जिला जेल के तो सभी स्टाफ और बंदियों की जांच की जा चुकी। दुबारा जांच में भी कुछ बंदी और स्टाफ पॉजिटिव पाया गया है। जयपुर जेल के अलावा अन्य जेलों से फिलहाल संक्रमित नहीं मिले हैं।

अब यह गाइड जाइन जारी की है स्वास्थ्य विभाग ने
जेलों से संक्रमितों की संख्या देखने के लिए शुक्रवार शाम स्वास्थय विभाग के अफसरों ने जेल विभाग के लिए भी पांच बिंदुओं की गाइड लाइन जारी की है। इसके आधार पर अब जिला स्तर पर कोविड केयर सेंटर में अलग से एक जेल वार्ड बनाया जाएगा। जो नए बंदी गिरफ्तार हों और पुलिस इनको लाए ऐसे बंदियों की सभी जरुरी जांच की जाए और कोशिश की जाए कि जांच रिपोर्ट उसी दिन मिल जाए। जांच रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद पुलिस को भी इसकी सूचना दी जाए ताकि बंदी या कैदी को अगली गाइड लाइन में ले जाया जा सके। यदि जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आती है तो ऐसे बंदी और उससे संपर्क में आने वाले सभी लोगों को 21 दिन के लिए आईसोलेट करें और सही तरीके से दूरी बनाकर उसकी देखभाल करें। जेलों में लगे चिकित्सक हर दिन ऐसे बंदियों और जेल स्टाफ के बारे में रिकॉर्ड तैयार करेगा। जेल स्टाफ की और उनके परिवार के लोगों की भी हर दो सप्ताह में जांच की जाए ताकि यह संक्रमण उनके परिवार तक नहीं फैले।

बंदियों को छोड़ने पर अभी विचार नहीं
जेलों से बंदियों को छोडने के बादे में अब भी असमंजस बना हुआ है। ऐसे में बंदियों को जेल में ही ध्यान रखने के निर्देश जेल विभाग अपने स्टाफ को दे रहा है। देश भर में बंदियों के संक्रमित होने के बाद और संक्रमण का खतरा होने के बाद कई राज्यों से अपने बंदियों को पैराल पर नियमानुसार छोड़ा है। इनमें सबसे ज्यादा बंदियों को महाराष्ट्र और पंजाब ने छोड़ा है। दिल्ली ने भी हजारों बंदियों को एक महीने के लिए घर भेजा है। देश भर के कई राज्यों से एक महीने के दौरान चालीस हजार से भी ज्यादा बंदियों को छोड़ा गया है। उनको अगले आदेशों तक घर पर ही रहने के सख्त निर्देश दिए गए हैं।

JAYANT SHARMA Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned