गांव में न फैले कोरोना, पेड़ों पर बनाया बसेरा

जागरूकता: प्रवासी घर से दूर बसर कर रहे जिंदगी

By: jagdish paraliya

Published: 23 May 2020, 05:21 PM IST

नांगल (नाथूसर). सीकर. गांव दुल्हेपुरा निवासी पवन कुमार कोटिया ने जोधपुर से आने के बाद स्वयं को परिवार से दूर रखते हुए पेड़ पर मचान बनाकर क्वॉरंटीन कर लिया। पवन ने शीशम के पेड़ पर करीब 15-18 फीट ऊंचाई पर चारपाई बांधकर मचान बना लिया। उसी पर रहता है। पवन जोधपुर में टाइल्स का काम करता था। वहां से आने के बाद से 10 दिन से खेत में पेड़ पर बने मचान पर रह रहा है। परिजन भोजन व अन्य सामग्री रस्सी से मचान पर ही पहुंचाते हैं।
गुढ़ाचन्द्रजी (करौली). कोरोना के चलते प्रवासी अपने घरों में परिजन से दूर अलग कमरे में जिंदगी बसर कर रहे हैं। तिमावा गांव में १६ मई को कार में अहमदाबाद से आए प्रवासी ने लोगों को संक्रमण से बचाव के लिए खुद को गांव से दो किमी दूर होम आइसोलेट कर रखा है। तिमावा के पिन्टू मीना ने पेड़ पर रस्सी से चारपाई का झूला डाला हुआ है। पिन्टू ने बताया कि वह अहमदाबाद में व्यवसाय करता है। कोरोना के लॉकडाउन के चलते वह पिछले दिनों तिमावा आया।

कारागार के 6 प्रहरी संक्रमित
सिरोही. जिले में कोरोना ब्लॉस्ट रुकने का नाम ही नहीं ले रहा है। यहां रोज बड़ी संख्या में नए मरीज सामने आ रहे हैं। शुक्रवार सवेरे जिले के चार उपखण्ड क्षेत्रों में ९ नए कोरोना पॉजिटिव सामने आए। शाम को जिला कारागार के छह प्रहरियों समेत ९ लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। ऐसे में एक ही दिन में १८ जनों की रिपोर्ट पॉजिटिव आ गई। इसके साथ ही आंकड़ा ९६ तक पहुंच गया।

नर्स सहित एक दिन में ९ नए पॉजिटिव
बांसवाड़ा. जिले में नमूनों की जांच रिपोर्ट में एमजी अस्पताल की नर्स सहित ७ जने पॉजिटिव आए। इससे तीन दिन पहले गंभीर हालत पर रैफर बांसवाड़ा से दो प्रसूताएं उदयपुर में जांच के दौरान कोरोना पॉजिटिव आई। इससे एक ही दिन में ९ नए केस आने से अब जिले में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा ८५ हो गया है।

jagdish paraliya
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned