कोरोना का असर: मेहमानों से पूछ रहे, रूम बुक करा लिया या हम कराएं

एक ओर जहां कोरोना के बढ़ते संक्रमण से लोगों में भय की स्थिति है। वहीं दूसरी ओर संकट काल में आमजन की जीवनशैली के साथ-साथ मेहमानवाजी और लोगों की मदद करने के तरीके भी बदल गए हैं।

By: kamlesh

Published: 30 Sep 2020, 03:33 PM IST

जयपुर। एक ओर जहां कोरोना के बढ़ते संक्रमण से लोगों में भय की स्थिति है। वहीं दूसरी ओर संकट काल में आमजन की जीवनशैली के साथ-साथ मेहमानवाजी और लोगों की मदद करने के तरीके भी बदल गए हैं।

दरअसल, कोरोना के बढ़ रहे आंकड़े को देखकर लोगों ने घरों में भी सख्ती शुरू कर दी है। यहां तक कि मेहमानों को घर में बुलाने से भी कतरा रहे हैं। आने से पहले उनसे फोन करके पूछ रहे हैं आपने होटल में कमरा बुक कराया है या हम कराएं। इतना ही नहीं बाहरी जिलों से आकर भर्ती हुए मरीजों के लिए खाने-पीने का सामान घर से भेजने में भी कोताही बरत रहे हैं।

कोरोना संक्रमितों की मदद करने में भी बचाव के कई जतन कर रहे हैं। शादी-समारोहो में भी मेहमानों से पहले पूछ रहे हैं। किसी की मृत्यु होने पर ऑनलाइन सांत्वना बैठकें आयोजित कर रहे हैं। साफ है कि लोगों में कोरोना का भय बढ़ता जा रहा है।

पहले घर में रुकते थे, अब होटल में करवा रहे व्यवस्था
झोटवाड़ा निवासी चारूल बतातीं है कि लॉकडाउन से पहले आए दिन घर में कोई न कोई मेहमान आते रहते थे। जैसे ही कोरोना का प्रकोप बढ़ा तो मेहमानों को आने से मना कर देते हैं। जरूरी काम से आने वाले मेहमानों को समीप होटल में भी रूकवा देते हैं।

दोस्त संक्रमित हुआ तो, दीवार पर रख आते थे खाना
वैशाली नगर निवासी भानुप्रताप सिंह ने बताया कि बीते दिनों एक दोस्त कोरोना संक्रमित हो गया था। वो यहां अकेला रह रहा था। उसे घर में रखना ठीक नहीं था। आइसोलेशन के दौरान रोजाना घर की बजाय होटल से खाना पैक करवा कर उसकी दीवार पर रख आता था।

नहीं गए अस्पताल, फोन पर करवाए अन्य जगह इंतजाम
हीरापुरा निवासी प्रदीप अवाना ने बताया कि गांव से इलाज के लिए मरीज के साथ आने वाले लोग उनके पास ही रूकते है और घर पर ही खाना-पीना होता है। इस बार अस्पताल भी नहीं गया और फोन पर एक गेस्टहाउस में कमरा दिलवाया और वहीं इंतजाम करवाएं।

यह बदलाव भी
शादियों में निमंत्रण से पहले पूछ रहे हैं आएंगे या नहीं।
जिनके घर में मौत हो रही है, वे ऑनलाइन सांत्वना बैठक कर रहे हैं।
जन्मदिन, एनिवर्सरी, पार्टी में भी बाहरी मेहमान, पड़ोसी को बुलाने से कतरा रहे लोग।
घर आने वाले लोगों को गेस्ट रूम या ड्राइंग रूम में बैठाने से भी करता रहे हैं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned