लॉकडाउन को लेकर सीबीएसई ने विद्यार्थियों को लिखा पत्र

पत्र में बताया पढ़ने के लिए यह सुनहरा अवसर, ज्यादातर स्कूलों की आॅनलाइन क्लास शुरू, डिजिटल माध्यम से करें पढ़ाई

जयपुर। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने पूरे देश में लॉकडाउन होने के बाद विद्यार्थियों को एक पत्र लिखा है। इस पत्र में सीबीएसई के सचिव अनुराग त्रिपाठी ने विद्यार्थियों को संदेश दिया है। अपने संदेश में उन्होंने लॉकडाउन को शिक्षा के लिए एक सुनहरा अवसर बताया है। उन्होंने पत्र में लिखा है कि विद्यार्थी यदि चाहे तो विद्या के जरिए रोग, शोक, द्वेष, दीनता, पाप, गरीबी, बेकारी, अभाव, अज्ञान, दुर्गुण, कुसंस्कार, आदि की दासता से मुक्ति पा सके। उन्होंने कहा कि प्राचीन काल में यही शिक्षा तोता-रटंत की अपेक्षा प्रत्यक्ष प्रमाण, अनुभव, क्रिया एवं सीख के माध्यम दी जाती थी। दर्शन, विज्ञान, गणित, चिकित्सा, खगोल, भूगर्भ, प्राणिशास्त्र, रसायन, शिल्प, वास्तु, अर्थ, नीति, धर्म आदि के विद्वान घर-घर होते थे और इन विषयों की वे क्रियात्मक तरीके से अनुभवपूर्ण शिक्षा प्राप्त करते थे। आज की स्कूली शिक्षा ज्ञान तो दे रही है लेकिन कौशल विकास नहीं कर पा रही है। चरित्र निर्माण का प्रयास तो कर रही है लेकिन मूल्यों का बीजारोपण नहीं कर पा रही है। शत-प्रतिशत अंक तो दे रही है लेकिन रचनात्मकता का विकास नहीं कर पा रही है। स्कूली शिक्षा एवं व्यावहारिक जीवन के बीच की खाई लगातार बढ़ती जा रही है। ज्यादातर बच्चे उन रोजगारों में भाग्य आजमा रहे हैं जिनमें उनका इनट्रेस्ट कभी था ही नहीं। यह स्थिति समाज एवं राष्ट्र दोनों के विकास में बाधक है।

डिजिटल माध्यम से करें पढ़ाई
लॉकडाउन के इस समय का उपयोग सबसे ज्यादा डिजिटल माध्यमों से हो सकता है। इस समय देश के ज्यादातर सीबीएसई स्कूलों ने ऑनलाइन क्लासेस प्रारंभ कर दी हैं। एचआरडी मिनिस्ट्री के दीक्षा प्लेटफार्म पर सीबीएसई ने अधिकतर विषयों के ई-कंटेंट लांच कर दिए हैं। गूगल क्लासरूम जैसे अनेक कई प्लेटफार्म है जिनका उपयोग करके स्कूल एवं बच्चे अपनी पढ़ाई शुरू कर चुके हैं। उन्होंने शिक्षकों से भी अपील की है कि बच्चों को प्रोजेक्ट, असाइनमेंट, एक्टिविटिज एवं ई-कंटेंट तत्काल ऑनलाइन माध्यम से भेज दें जिससे बच्चे उनका भरपूर उपयोग कर सकें। उन्होंने विद्यार्थियों से कहा कि इस कठिन समय को एक अवसर में बदलते हए देश के हर घर को लर्निग एवं स्किल सेंटर के रूप में बदल देना चाहिए।

लॉकडाउन को लेकर ये कहा
लॉकडाउन का यह समय बच्चों, अध्यापकों एवं अभिभावकों तीनों लिए गोल्डन अपरच्वनिटी लेकर आया है। सबके पास असीमित समय, घर जैसी प्रयोगशाला एवं इंटरनेट पर मौजूद दुनिया के सारे संसाधन चुटकियों में उपलब्ध हैं। बच्चों के लिए तो पूरा घर लरनिंग सेंटर हो सकता है। ई-क्लासेस, प्रोजेक्ट्स, एक्टिविटीज, फन, गेम्स,वीडियो शूट्स और ढेरों ऐसी गतिविधियाँ रोट लरनिंग से निजात दिला सकती हैं। टीचर्स के लिए तो खुद को अपगरेड करने का यह सुनहरा मौका है। ऑनलाइन टीचिंग, ई- कंटेंट, खुद के वीडियो, लेसन प्लान एवं असाइनमेंट्स के क्षेत्र में वे विशेषज्ञता हासिल कर सकते हैं। अभिभावक इन क्षणों का उपयोग बच्चों के साथ खेलने, दोस्ती करने, भावनात्मक सपोर्ट देने, आदतों एवं कलाओं का विकास करने, किचेन में समय बिताने एवं फैमिली के साथ क्वालिटी टाइम बिताने में कर सकते हैं।

यह समय वरदान से कम नहीं
उन्होंने पत्र में लिखा है कि हर घटना एक अवसर लेकर आती है। लॉकडाउन के कारण घर में मिला हुआ यह असीमित समय भी आपके लिए किसी वरदान से कम नहीं। यहां स्कूल एवं घर के दबाव से मुक्त आपके सपने आसमानी उड़ान भर सकते हैं। अपने शौक और इच्छाओं को पूरा करने का इससे सुनहरा अवसर दोबारा नहीं मिलेगा। आप अपने हुनर, कौशल एवं क्षमताओं को तराशते हुए नए भविष्य की राह चुन सकते हैं।

MOHIT SHARMA Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned