कोरोना का लॉकडाउन, ई-कॉमर्स की हालत खराब

नई दिल्ली। कोरोनावायरस ( Coronavirus ) की वजह से हुए देशभर में हुए लॉकडाउन के दौरान आवश्यक वस्तु उपलब्ध कराने में ई.कॉमर्स ( eCommerce ) एप फिसड्डी साबित हुए हैं। इनके यहां न सिर्फ आवश्यक वस्तुओं ( essential items ) की उपलब्धता घट गई है बल्कि सामान की डिलिवरी भी समय पर नहीं हो रही है। इन एप्स की तुलना में पड़ोस के दुकानदार के यहां ज्यादा सामान मिल रहा है और ग्राहक हाथोंहाथ सामान ले पा रहे हैं। इसका खुलासा लोकल सर्किल के एक सर्वे से हुआ है। कन्ज्यूमर्स तक ई-कॉमर्स ग्रॉसरी एप जैसे कि ग्रोफर्स, बिग

ग्रोफर्स अपने ग्राहकों को मेसेज भेजकर ऑर्डर में देरी की मांगी मांग रहा है। उसका कहना है कि हम समझते हैं इस संकट की घड़ी में ग्रॉसरी की समय पर डिलिवरी कितनी जरूरी है, लेकिन लॉकडाउन की वजह से हमारा डिलिवरी स्टाफ चेकपॉइंट्स पर रोक लिया जा रहा है। इसके अलावा, कई स्थानीय अथॉरिटीज ने हमारे गोदाम बंद कर दिए हैं। हमारी कोशिश है कि आप तक जरूरी चीजें पहुंचाएं लेकिन देरी हो सकती है। अगर इस बीच आपने कहीं और से ग्रॉसरी का इंतजाम कर लिया है तो हमें बताएं औक ऑर्डर कैंसल कर दें ताकि उस स्लॉट में अन्य लोगों को मदद मिल सके। ग्रोफर्स की ओर से एक मेसेज जारी कर ग्राहकों को बताया है कि वह ऑर्डर असेप्ट नहीं कर रहा है। साथ ही, ग्राहकों को सर्विस दोबारा चालू होने को लेकर नोटिफाई करने के लिए कहा है।

इसी तरह, बिग बास्केट सिर्फ दूध की डिलिवरी कर रहा है, उस पर यही ऑप्शन दिखाई दे रहा है। सुबह 7 बजे से पहले डिलिवरी की जाएगी। दूध, पनीर, दही, ब्रेड आदि की होम डिलिवरी करने वाला दूधवाले डॉट कॉम भी लोगों तक डिलिवरी नहीं पहुंचा पा रहा है। वह ग्राहकों को मैसेज कर ऑर्डर सस्पेंशन की सूचना दे रहा है। उसका कहना है कि लॉकडाउन की वजह से सेवाएं सस्पेंड कर दी गई हैं।

ैएक रिपोर्ट के मुताबिक, बड़ी संख्या में प्रॉडक्ट्स को अब स्टॉक किया जा है। सभी राज्य सरकारों ने यह कहा है कि सभी ई-कॉमर्स गतिविधियों जैसे वेयरहाउसिंग, लॉजिस्टिक्स विक्रेताओं और डिस्ट्रिब्यूटर्स आदि को लॉकडाउन के दौरान काम करना है ताकि जरूरी चीजों की कमी न हो। लेकिन ज्यादातर ई-कॉमर्स प्लैटफॉर्म ने बताया है कि उनके ट्रक आपूर्ति और वितरण अधिकारियों और पुलिस द्वारा सिटी के अंदर ले जाने से रोक रहें हैं ।

दूसरी तरफ सुपरमार्केट चेन बिग बाजार मैदान में उतर गया है। बिग बाजार ने दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु और गुरुग्राम जैसे बड़े शहरों में ऑनलाइन डिलिवरी सर्विस लॉन्च की है।
अपनी यह सर्विस लॉन्च करने के कुछ देर बाद ही कंपनी के पास डिलिवरी के लिए फोन कॉल्स की बाढ़ आ गई। इसके बाद कंपनी को बुधवार को एक स्टेटमेंट जारी कर कहना पड़ा कि ताजा घोषणा के बाद उन्हें होम डिलिवरी के लिए बड़ी भारी संख्या में ऑर्डर मिल रहे हैं और मौजूदा प्रतिबंधों के चलते इसमें थोड़ी देरी हो सकती है।
21 दिन के लॉकडाउन के लिए सरकार द्वारा जारी अधिकारिक सूचना के अनुसारए राशन की दुकानें, फूड, ग्रॉसरी, फल, सब्जियों, डेयरी, मिल्क बूथ, मीट, पशुआहार से संबंधित दुकानें खुली रह सकती हैं।

coronavirus
Narendra Kumar Solanki Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned