कोरोना के लिए सख्ती जरूरी, व्यापार बंद करना हल नहीं

कोरोना संक्रमण ( corona infection ) को रोकने के लिए राज्य सरकार को दिशा व निर्देशों का सख्ताई से पालना करवाना आवश्यक है न की नाइट कफ्र्यू ( Night curfew ) व लॉकडाउन ( lockdown ) की आवश्यकता है। 15 दिन के लॉकडाउन से व्यापारियों को करोड़ो रुपए का नुकसान होने का अंदेशा है। फोर्टी ( Forty ) अध्यक्ष सुरेश अग्रवाल ने बताया कि जैसे उद्योग और कृषि उपज मंडियों को कोरोना गाइडलाइन के तहत खोलने की अनुमति दी गई है। इसी तरह बाजारों को भी खुला रहने दिया जाना चाहिए था।

By: Narendra Kumar Solanki

Published: 19 Apr 2021, 08:12 PM IST

जयपुर। कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए राज्य सरकार को दिशा व निर्देशों का सख्ताई से पालना करवाना आवश्यक है न की नाइट कफ्र्यू व लॉकडाउन की आवश्यकता है। 15 दिन के लॉकडाउन से व्यापारियों को करोड़ो रुपए का नुकसान होने का अंदेशा है। फोर्टी अध्यक्ष सुरेश अग्रवाल ने बताया कि जैसे उद्योग और कृषि उपज मंडियों को कोरोना गाइडलाइन के तहत खोलने की अनुमति दी गई है। इसी तरह बाजारों को भी खुला रहने दिया जाना चाहिए था। राज्य सरकार को व्यापारिक संगठनो के प्रतिनिधियों से बात करनी चाहिए और उनकी जिम्मेदारी तय करके कोरोना प्रोटोकॉल लागू कराया जा सकता था। इससे व्यापारियों को प्रत्यक्ष तौर पर रोजगार का नुकसान नहीं होता।
पिछले साल लॉकडाउन की वजह से व्यापारियों को करोड़ो रुपए का नुकसान उठाना पड़ा है। कई व्यापारी तो इस नुकसान से अभी तक उबर भी नहीं सके हैं। दिसंबर के बाद से व्यापार पटरी पर लौटा था। अगले तीन महीने में लगभग 45 सावों से व्यापारियों को अच्छे कारोबार और पुराने घाटे पूरा करने की उम्मीद थी, लेकिन सरकार के फिर लॉकडाउन के रास्ते पर लौटने से व्यापारियों को बड़ा धक्का लगा है। सरकार ने जल्द ही इस बारे में पुनर्विचार नहीं किया तो कई व्यापारियों को बड़ा नुकसान होने का अंदेशा है।
फोर्टी चीफ सेक्रेटरी गिरधारीलाल खण्डेलवाल ने बताया कि व्यापारियों के संभावित नुकसान को देखते हुए सरकार को इंडस्ट्री के साथ-साथ व्यापार को भी खुला रखा जाना चाहिए था, क्योकि व्यापार बंद होने से सप्लाई चैन में बहुत बड़ा फर्क पड़ेगा। साथ ही व्यापारी दुकान किराया व कर्मचारियों का वेतन बिजली का बिल भी कहा से देगा। सरकार चाहे तो कड़ी गाइडलाइन लागू करते हुए व्यापारियों को जिम्मेदारी दे कि दो-तीन लोग एक साथ इक_े नहीं होने दे, जो मास्क नहीं पहने हो उनको टोके, गाडिय़ों में दो व मोटर साइकिल स्कूटर पर सिर्फ एक लोग आए इसके लिए प्रेरित करें।

Narendra Kumar Solanki Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned