आईपीओ बाजार पर कोरोना का कहर

कोरोना वायरस ( Corona virus ) से जहां देश की अर्थव्यवस्था ( economy ) डगमगा गई है, वहीं शेयर बाजार ( stock market ) की हालात भी पतली हो गई है, जिससे आईपीओ बाजार तबाह हो गया है। इस बात का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि साल 2020 में अभी तक यानि साल के पहले 6 महीनों में महज एक ही आईपीओ आ पाया है। इस तरह से आईपीओ का आंकड़ा 2014 के स्तर पर पहुंच गया है।

By: Narendra Kumar Solanki

Published: 24 Jun 2020, 01:47 PM IST

जयपुर। कोरोना वायरस से जहां देश की अर्थव्यवस्था डगमगा गई है, वहीं शेयर बाजार की हालात भी पतली हो गई है, जिससे आईपीओ बाजार तबाह हो गया है। इस बात का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि साल 2020 में अभी तक यानि साल के पहले 6 महीनों में महज एक ही आईपीओ आ पाया है। इस तरह से आईपीओ का आंकड़ा 2014 के स्तर पर पहुंच गया है। उस साल में भी पहले 6 महीने में महज एक ही आईपीओ आया था।इस साल के पहले 6 महीने में मात्र एक आईपीओ आया है। वह है एसबीआई कार्ड का। इसमें भी निवेशक घाटे में ही रहे हैं। यह आईपीओ के भाव की तुलना में 18 प्रतिशत डिस्काउंट पर कारोबार कर रहा है। यह डिस्काउंट पर है लिस्ट भी हुआ था।
कोरोना वायरस के कारण टले आईपीओ
इस साल की शुरुआत में 20 हजार करोड़ रुपए के आईपीओ आने की उम्मीद थी। लेकिन यह सभी आईपीओ कोरोना वायरस के कारण टल गए। इस वर्ष एसएमई प्लेटफॉर्म पर भी पिछले वर्ष की तुलना में काफी कम आईपीओ आए हैं। बीएसई और एनएसई पर मिलाकर एसएमई के महज 11 आईपीओ आए हैं। एसएमई प्लेटफॉर्म पर 2 से 5 करोड़ रुपए का भी आईपीओ लाने की मर्चेंट बैंकर्स की हिम्मत नहीं है। एसएमई प्लेटफॉर्म पर महज 65 करोड़ रुपए के आईपीओ आए हैं जो पिछले वर्ष की तुलना में काफी कम हैं।
2014 में भी 6 महीने में एक ही आईपीओ
वर्ष 2014 में हालांकि 6 महीने में दो आईपीओ आए थे, पर एक आईपीओ को सब्सक्रिप्शन नहीं मिलने की वजह से वापस ले लिया गया था। इस साल भी यही हाल रहा है। इस साल एसबीआई कार्ड के अलावा एक एंटोनी वेस्ट का आईपीओ आया था और उसे पूरा सब्सक्रिप्शन नहीं मिलने पर वापस ले लिया गया था।
एलआईसी के आईपीओ का भी इंतजार
कोरोना से पहले एलआईसी के आईपीओ को लेकर जरूर कुछ पॉजिटिव माहौल बना था, पर कोरोना ने पूरे माहौल को चौपट कर दिया। हालांकि अभी भी यह संभव है कि इस वित्त वर्ष में यह आईपीओ आ जाएगा, पर यह काफी बड़ा आईपीओ है। इसलिए इसमें थोड़ी देरी भी हो सकती है। विश्लेषकों के मुताबिक अभी भी आईपीओ बाजार या सेकेंडरी मार्केट अगले 3 महीने तक खराब रह सकता है। माना जा रहा है कि पहला आईपीओ आने में अगस्त लग सकता है।

Corona virus
Narendra Kumar Solanki Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned