भीलवाड़ा निवासी 73 वर्षीय नारायण सिंह की मौत पर संचय, जांच में आए थे कोरोना पॉजिटिव

भीलवाडा के 73 वर्षीय नारायण सिंह की मौत पर संचय की स्थिति उत्पन्न हो गई है। स्वास्थ्य विभाग ने सिंह की कोमा अवस्था में कोरोना ( Coronavirus ) की जांच करवाई थी, जो पॉजिटिव आई थी। बाद में 26 मार्च को उनकी मौत हो गई...

जयपुर। भीलवाडा के 73 वर्षीय नारायण सिंह की मौत पर संचय की स्थिति उत्पन्न हो गई है। स्वास्थ्य विभाग ने सिंह की कोमा अवस्था में कोरोना ( coronavirus ) की जांच करवाई थी, जो पॉजिटिव आई थी। बाद में 26 मार्च को उनकी मौत हो गई। अब उनकी मौत पर कई तरह के सवाल खडे हो गए हैं। कुछ लोग मौत का कारण कोरोना मान रहे हैं तो उधर स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि मौत का कारण पूर्व ग्रसित बीमारियां हैं।


नारयण सिंह को तीन मार्च को ब्रेन स्ट्रोक यानि लकवा आने के कारण यहां भीलवाडा के निजी ब्रजेश बांगड अस्पताल में भर्ती करवाया। वे 3 से 11 मार्च तक यहां बांगड अस्पताल में ही भर्ती रहे। तबीयत में सुधार नहीं होने पर डॉक्टरों ने सिंह को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया और परिजन उन्हें घर ले आए।


20 मार्च को भीलवाडा जिले में डॉ नियाज, डॉ आलोक मित्तल एवं अन्य के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने पर स्वास्थ्य विभाग ने क्षेत्र में सर्वे का काम शुरू करवाया। कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग में पाया गया कि सिंह भी 3 से 11 मार्च तक इन्हीं डॉक्टरों के अस्पताल में भर्ती थे। एहतीयात के तौर पर सिंह के कोरोना जांच के नमूने लिए गए, जिसमें कोविड 19 पॉजिटिव पाया गया।


उसके बाद 26 मार्च को सिंह की मृत्यु जो गई। अब यह बडा सवाल खडा हो गया है कि सिंह की मृत्यु कोरोना वायरस से हुई या दूसरी बीमारियों से। अगर यह साबित हो गया कि मृत्यु कोरोना की वजह से हुई है तो यह प्रदेश में कोरोना से पहली मौत होगी। हालांकि स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का कहना है कि सिंह कोरोना पॉजिटिव आने से पहले ही किडनी फैलियर व ब्रेन स्ट्रोक के कारण कौमा में थे। इसलिए मृत्यु का कारण कोरोना नहीं हो सकता है।


पूर्व में इटली नागरिक की भी हो चुकी है मौत
सवाई मानसिंह अस्पताल में 29 फरवरी को इटली दंपत्ती को कोरोना वायरस का संदिग्ध मानते हुए भर्ती करवाया गया था। बाद में उनकी जांच में कोरोना पॉजिटिव आया। कुछ दिन उपचार के बाद दोनों इटली दंपत्ती को एसएमएस अस्पताल के डॉक्टरों ने कोरोना फ्री घोषित कर दिया। 20 मार्च को जयपुर के एक निजी अस्पताल में इटली नागरिक की मौत हो गई। ये इटली नागरिक भी जब एसएमएस में कोरोना का उपचार करा रहा था उस समय फेफडों तथा मधुमेह की गंभीर स्थिति में था।, लेकिन बाद में इन्हे कोरोना फ्री घोषित कर दिया गया था।

coronavirus
dinesh Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned