Coronavirus in Rajasthan: राजस्थान में संक्रमण की डबलिंग दर खतरनाक स्तर पर

प्रदेश में कोरोना संक्रमण दोगुना होने की दर खतरनाक स्तर पर है। मात्र 35 दिन में संक्रमितों की संख्या दोगुनी हो रही है।

By: santosh

Published: 15 Sep 2020, 03:30 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
जयपुर। प्रदेश में कोरोना संक्रमण दोगुना होने की दर खतरनाक स्तर पर है। मात्र 35 दिन में संक्रमितों की संख्या दोगुनी हो रही है। डबलिंग दर यही रही तो 17 अक्टूबर तक संक्रमितों की संख्या 2 लाख पार हो जाएगी। अभी यह संख्या एक लाख पार हो चुकी है। प्रदेश में अभी कोविड मौतें दोगुनी होने के 49 दिन माने गए हैं। इस आधार पर 30 अक्टूबर तक मौतों का आंकड़ा 2500 तक पहुंचने के आसार हैं। इस बीच, चिन्ताजनक यह है कि लगातार फैलती इस महामारी से निपटने की तैयारी तो है ही नहीं और प्रदेश में स्कूलें खोलने की तैयारी की जा रही है।

व्यवस्थाए: यह है सरकारी दावा
- 111765 क्वॉरंटीन पलंग, 43704 आइसोलेशन पलंग, 8090 ऑक्सीजन उपलब्धता वाले पलंग, 1672 आइसीयू, 881 वेंटिलेटर, कोविड के लिए 114 अस्पताल और 293 कोविड केयर सेंटर उपलब्ध।
- 25 से 30 हजार जांचें औसतन प्रतिदिन, आम मरीजों को 2-3 दिन में मिल रही रिपोर्ट।
- 25 फीसदी बेड हर अस्पताल में कोरोना रिजर्व।

इधर यह हाल: जांचों पर सवाल
बिना जांच सुमन शर्मा को बताया 'पॉजिटिव', बोलीं-आश्चर्य है

राजस्थान महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष सुमन शर्मा को बिना जांच कराए ही पॉजिटिव बता दिया गया। पिछले दिनों मालवीय नगर में कोरोना जांच के लिए लगे शिविर में शर्मा के परिवार के सदस्यों ने जांच कराई थी। व्रत होने के कारण सुमन ने जांच नहीं कराई। बाद में परिवार के सभी सदस्यों की रिपोर्ट निगेटिव आई जबकि टेस्ट नहीं कराने के बावजूद सुमन की रिपोर्ट पॉजिटिव बतार्ई गई। इसे लेकर सुमन ने जांच पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा कि पति के मोबाइल पर आए मैसेज में उन्हें कोरोना पॉजिटिव बताया गया। इस पर आश्चर्य हुआ, गुस्सा भी आया। लगा, सारी टेस्टिंग फेक है। डॉक्टरों से शिकायत की है। इतना ही नहीं, अगले दिन चिकित्सा विभाग की टीम उनके घर कोरोना की सूचना चस्पा करने भी आ गई। शर्मा ने कहा, मुख्यमंत्री और चिकित्सा मंत्री बताएं कि यह क्या तमाशा हो रहा है। राजस्थान की सरकारी संस्थाओं पर विश्वास करें या नहीं।
———————————————————————

सरकारी में संक्रमित, निजी में नेगेटिव
सुमन शर्मा के रिश्तेदार चंदन शर्मा को 12 सितंबर को संक्रमित बताया गया। उसी दिन निजी लैब में जांच कराई तो रिपोर्ट नेगेटिव आई।

———————————————————————
बेनीवाल दिल्ली में पॉजिटिव और जयपुर में नेगेटिव, बोले-कौनसी रिपोर्ट को सही मानूं

रिवर्स ट्रांसक्रिप्शन पॉलिमरेस चेन रिएक्शन (आरटी-पीसीआर) जांच की सटीकता पर फिर सवाल खड़े हो रहे हैं। नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल ने संसद सत्र से पहले शुक्रवार को लोकसभा परिसर में कोरोना जांच कराई तो उन्हें संक्रमित बताया गया। रविवार को जयपुर में एसएमएस अस्पताल में नमूने दिए तो रिपोर्ट नेगेटिव आई। बेनीवाल ने सोमवार को ट्वीट किया, कौनसी रिपोर्ट को सही मानूं? बेनीवाल पूर्व में संक्रमित हुए तो आरयूएचएस में उपचार कराया था। उसके बाद रिपोर्ट नेगेटिव आ गई थी।
———————————————————————

4.23 बजे नेगेटिव, 7.50 बजे पॉजिटिव
राजस्थान हाईकोर्ट के सेवानिवृत्त एओजे राजेश जैन की पत्नी ने 8 सितंबर को शाम 4.23 बजे जांच कराई तो नेगेटिव बताया गया। उसी दिन शाम 7.50 बजे दूसरी जांच में उन्हें पॉजिटिव बता दिया गया।

———————————————————————
पत्रिका ने पहले भी उठाया सवाल

आरटी-पीसीआर जांच की शत प्रतिशत शुद्धता को लेकर राजस्थान पत्रिका पहले भी सवाल उठा चुका है। विशेषज्ञों की राय में इस जांच का बेहतर विकल्प मिलने तक सभी मरीजों की अन्य लैब में दोबारा जांच करानी चाहिए।

coronavirus

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned