राजस्थान में कोरोना संक्रमण की बढ़ती रफ्तार के बीच ऑक्सीजन की किल्लत होने की आशंका

कोरोना वैक्सीनेशन के बाद अब ऑक्सीजन आवंटन के मामले में भी राज्य सरकार ने केन्द्र पर आरोप लगाया है।

By: santosh

Published: 19 Apr 2021, 01:10 PM IST

जयपुर। कोरोना वैक्सीनेशन के बाद अब ऑक्सीजन आवंटन के मामले में भी राज्य सरकार ने केन्द्र पर आरोप लगाया है।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने रविवार को कहा कि पहले भिवाड़ी में ऑक्सीजन बन रही थी। केंद्र सरकार ने उसका अधिग्रहण कर लिया और सेंट्रलाइज्ड वितरण का फैसला किया। अब केंद्र सरकार ही सभी राज्यों को ऑक्सीजन आवंटित करेगी।

गहलोत ने कहा कि राजस्थान को नाममात्र की ऑक्सीजन आवंटित की गई है। अब जाकर जामनगर से ऑक्सीजन का कोटा मिला है। जामनगर में टैंकर नहीं है। अब टैंकर की व्यवस्था करने में लगे हैं। वहां से ऑक्सीजन लाने की व्यवस्था की जा रही है।
————————————————————
केन्द्र ने तय किया कोटा
इधर, चिकित्सा विभाग के अधिकारियों के मुताबिक केन्द्र ने अधिसूचना जारी कर राज्यों के एक-एक तरल मेडिकल ऑक्सीजन प्लांटों के लिए कोटा निर्धारित किया है। इसके तहत राजस्थान के सबसे बड़े ऑक्सीजन प्लांट भिवाड़ी की 127 टन उत्पादन क्षमता में से राजस्थान को 65 टन और दो दूसरे राज्यों को 40 और 15 टन ऑक्सीजन की आपूर्ति की जाएगी।
————————————————————
अगले दिनों में किल्लत की आशंका
राज्य में संक्रमण की बढ़ती रफ्तार के बीच अब अगले दिनों में ऑक्सीजन की भी किल्लत होने की आशंका है। हालांकि चिकित्सा विभाग का दावा है कि राज्य में पहले से इंतजाम पूरा है। अभी एक्टिव मामले 67 हजार से अधिक हैं। इनमें से 10 प्रतिशत मरीजों को ऑक्सीजन की आवश्यकता है। इनके लिए रोजाना 10-15 हजार सिलेंडर की जरूरत है। जबकि राज्य में इससे दोगुनी उपलब्धता है।

coronavirus
Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned