प्रदेश की भाजपा शासित निकायों में भ्रष्टाचार का बोलबाला

निकायों के नेता प्रतिपक्षों को लिखा परिपत्र
अनियमितताओं को करें उजागर

By: Umesh Sharma

Published: 24 Jul 2018, 09:05 PM IST

कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट ने प्रदेश की समस्त नगर निकायों के कांग्रेस पार्टी के नेता प्रतिपक्ष को परिपत्र लिखकर निर्देशित किया है कि वे अपने शहर व कस्बे की भाजपा शासित नगर निकायों में व्याप्त अनियमितताओं व भ्रष्टाचार का जनहित में खुलासा कर भाजपा सरकार की भ्रष्टाचार को संस्थागत करने की नीति का पर्दाफाश करें।


पायलट ने कहा कि प्रदेश की भाजपा शासित निकायों में भ्रष्टाचार फल-फूल रहा है और आमजनता मूलभूत सुविधाओं के लिए परेशान हो रही है। राजधानी के अनेकों इलाकों में बारिश के शुरुआत के साथ ही सड़क धंसने, कटाव लगने व जर्जर भवनों की समस्याएं सामने आ रही है, जिसके कारण जनहानि की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता। उन्होंने कहा कि स्थानीय निकायों की लापरवाही के कारण पिछले वर्ष राजधानी में एक होनहार युवक की नाले में बहने से दर्दनाक मौत हो गई थी। भाजपा सरकार ने स्थानीय निकायों में गठित होने वाली वार्ड कमेटियों का भी गठन नहीं किया है जिनके माध्यम से पारदर्शिता व जनसहयोग सुनिश्चित हो सकता है। जिससे साफ पता चलता है कि भ्रष्टाचार पर पर्दा पड़ा रहे इसलिए सरकार इन कमेटियों के गठन के पक्ष में नहीं है।

पायलट ने प्रदेश कांग्रेस कमेटी के जिला प्रभारी पदाधिकारियों को निर्देशित किया है कि निकायों में व्याप्त भ्रष्टाचार को ऊजागर करने की कांग्रेस की इस मुहिम में अपने से संबंधित जिलों में कांग्रेस के नेता प्रतिपक्ष का सहयोग करें व प्रेसवार्ता आयोजित कर संबंधित निकायों में व्याप्त भ्रष्टाचार को सार्वजनिक करें। पायलट ने प्रदेश की समस्त नगर निकायों के नेता प्रतिपक्षों को निर्देशित किया है कि संबंधित निकायों के समस्त सार्वजनिक समस्याओं व भ्रष्टाचार के मुद्दों को लेकर संबंधित अधिकारियों को ज्ञापन प्रस्तुत करें और जनता को राहत दिलवाएं। आपको बता दें कि शहर कांग्रेस की ओर से लगातार जयपुर नगर निगम के खिलाफ प्रदर्शन किए जा रहे हैं। स्मार्ट सिटी को लेकर भी पैदल मार्च निकाला जा चुका है।

Congress
Umesh Sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned