बुजुर्ग दंपती ने विवाह की साठवीं वर्षगांठ पर एक साथ छोड़ी दुनिया

एक दंपती ने 60 साल पहले जिस तिथि पर परिणय-सूत्र में बंधकर साथ जीने-मरने की कसम खाई संयोग से उसी दिन दोनों ने एक साथ दुनिया छोड़ दी।

By: santosh

Updated: 26 Nov 2020, 09:50 AM IST

विराटनगर। पंचायत समिति के ग्राम पंचायत कुहाड़ा निवासी एक दंपती ने 60 साल पहले जिस तिथि पर परिणय-सूत्र में बंधकर साथ जीने-मरने की कसम खाई संयोग से उसी दिन दोनों ने एक साथ दुनिया छोड़ दी।

कुहाड़ा निवासी प्रभुदयाल नैनावत एवं सरबती देवी का वर्ष 1960 में देवउठनी एकादशी के दिन विवाह हुआ था। बुधवार देवउठनी एकादशी के दिन ही अचानक सरबती देवी का निधन हो गया।

चलती स्कूटी बनी आग का गोला, 2 युवतियों ने कूदकर बचाई जान

इसके कुछ देर बाद ही प्रभुदयाल ने भी दुनिया को अलविदा कह दिया। ग्रामीण शिवराम गुर्जर ने बताया कि कुहाड़ा निवासी प्रभुदयाल नैनावत और सरबती देवी 1960 में देवउठनी एकादशी के सावे पर परिणय सूत्र बंधन में बंधे थे।

मरीज की रास्ते में मौत होने पर लौट रही थी एंबुलेंस, ट्रोले से भिड़ी, 3 लोगों की मौत

बुधवार को दंपती में से 79 वर्षीय सरबती देवी ने पहले दम तोड़ दिया। कुछ ही घंटे के बाद उनके 81 साल के पति प्रभुदयाल ने भी तोड़ दिया। निधन के बाद दोनों की एक ही समय पर अंतिम यात्रा निकालकर एक साथ अंतिम संस्कार किया गया।

राजस्थान कोरोना अपडेट: गांवों को लेकर आई राहतभरी खबर

दंपती अपने पीछे भरापूरा परिवार छोड़कर दुनिया से अलविदा हुए हैं। दंपती की मौत के बाद परिवार सहित आसपास क्षेत्र में गम का माहौल छा गया। साथ ही दोनों का निधन चर्चा का विषय रहा।

ये खबरें भी जरूर पढ़ें

राजस्थान: चौतरफा घिरे 'संक्रमित' हेल्थ मिनिस्टर, BJP उठा रही महामारी एक्ट के तहत कार्रवाई की मांग

शादी में ज्यादा मेहमानों को बुलाने पर 25-25 हजार का लगा जुर्माना

मुंबई से खाटूश्यामजी की 11 पैदल यात्रा की, जिन आदिवासी गांवों से गुजरे वहां भी पूजे जाने लगे बाबा श्याम

डॉक्टर के घर जाने पर मिलता है आइसीयू, कोविड मरीज की जांचें भी लिखी जा रही बाहर से

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned