कोरोना: सरकारी आवासीय केंद्रों पर सर्वाधिक सावधानी

कोरोना के बढ़ते कहर के बीच जहां शहर और छोटे कस्बे संक्रमण से बचने को हरसंभव कोशिश कर रहे हैं, वहीं सरकारी आवासीय केंद्रों में रहने वालों के लिए सरकार सर्वोच्च सावधानी बरतते हुए इन्हें संक्रमण से दूर रखने के पुरजोर प्रयास कर रही है।

By: chandra shekar pareek

Published: 10 May 2020, 10:38 PM IST

कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग जयपुर (शहर) के अंतर्गत संचालित राजकीय एवं स्वयंसेवी संस्थानों की ओर से संचालित मानसिक विमंदित पुनर्वास गृह, वृद्धाश्रम, शिशु गृह, बालिका गृहों में भी काफी सावधानी बरती जा रही है।
इन आवासीय गृहों में नए बालक-बालिकाओं, महिलाओं को प्रवेश देने से पूर्व बालक एवं बालिकाओं के लिए अलग-अलग विभागीय आवासीय गृहों में क्वारेंटाइन सेंटर का संचालन किया जा रहा है।

उपनिदेशक, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग, जयपुर (शहर) संदीप कुमार ने बताया कि इन सेंटर्स में नया प्रवेश लेने वाले बालक-बालिकाओं को अलग रखकर उनकी नियमित चिकित्सकीय जांच करवाई जाती है। उनके आने के 15 दिनों के बाद ही संबंधित श्रेणी के आवासीय गृह में उन्हें प्रवेश दिया जा रहा है।

जयपुर जिले में संचालित इस श्रेणी के सभी आवासीय गृहों का सप्ताह में दो बार विभागीय अधिकारियों के माध्यम से निरीक्षण करवाकर राज्य सरकार की ओर से कोविड-19 महामारी के तहत जारी एडवाइजरी की पालना करवाई जा रही है।

संदीप कुमार ने बताया कि जयपुर जिले में राजकीय एवं स्वयंसेवी संस्थानों की ओर से मानसिक विमंदित पुनर्वास गृह, वृद्धाश्रम, शिशु गृह, बालिका गृह, सम्पे्रषण गृह, महिला सदन, कुष्ठ गृह एवं सुधार गृह इत्यादि 50 अलग-अलग श्रेणी के विशेष आवश्यकता वाले गृह का संचालन किया जा रहा है। कोविड-19 महामारी के तहत उक्त श्रेणी के संचालित विशेष गृहों में नियमित अंतराल में एक प्रतिशत सोडियम हाइपोक्लोराइड का छिड़काव कर भवन सैनिटाइज करवाया जा रहा है।

आवासीयों के लिए अलग-अलग साबुन एवं सैनेटाइजर की व्यवस्था सुनिश्चित करवाई गई। नियमित अंतराल में साबुन से हाथ धोने हेतु उन्हें पे्ररित किया जा रहा है। प्रत्येक गृह में एक आइसोलेशन रूम भी पृथक से चिह्नित किया गया है ताकि यदि किसी आवासी में किसी भी प्रकार की कोई बीमारी के कोई लक्षण दिखाई दें तो उन्हें पृथक से आइसोलेशन रूम में रखा जा सके।

आवासीयों को गर्म पानी के नियमित गरारे करने तथा साफ-सफाई की पूर्ण व्यवस्था रखने हेतु भी पाबंद किया गया है। उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि करने हेतु संतुलित आहार उपलब्ध करवाते हुए नियमित व्यायाम करवाया जा रहा है। कोविड-19 महामारी की स्थिति में विशेष आवश्यकता वाले बालक-बालिकाओं हेतु दूरभाष के माध्यम से विशेषज्ञ काउंसलर से आवासियों की काउंसलिंग भी नियमित रूप से करवाई जा रही है।

Corona virus COVID-19 virus
chandra shekar pareek Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned