शादी ब्याज में 50 लोगों की बाध्यता हटाने की उठी मांग

कोविड-19 के चलते राज्य सरकार ने शादी समारोह (Wedding ceremony) में 50 लोगों की छूट (People discount) दे रखी है। शादी समारोह में 400 लोगों की अनुमति की मांग को लेकर सोमवार को लोगों ने रैली निकाली। लोग होटल हवेली पर एकत्र हुए और नारेबाजी करते हुए स्टेच्यू सर्किल पहुंचे। लोगों ने शादी समारोह में 50 लोगों की बाध्यता हटाने की मांग की। इसके बाद जिला कलेक्ट्रेट पहुंच कलेक्टर को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा।

By: Girraj Sharma

Published: 07 Sep 2020, 09:25 PM IST

शादी ब्याज में 50 लोगों की बाध्यता हटाने की उठी मांग
— शादी समारोह से जुड़े लोगों ने निकाली रैली, किया प्रदर्शन
— मुख्यमंत्री के नाम जिला कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन

जयपुर। कोविड-19 के चलते राज्य सरकार ने शादी समारोह (Wedding ceremony) में 50 लोगों की छूट (People discount) दे रखी है। शादी समारोह में 400 लोगों की अनुमति की मांग को लेकर सोमवार को लोगों ने रैली निकाली। लोग होटल हवेली पर एकत्र हुए और नारेबाजी करते हुए स्टेच्यू सर्किल पहुंचे। लोगों ने शादी समारोह में 50 लोगों की बाध्यता हटाने की मांग की। इसके बाद जिला कलेक्ट्रेट पहुंच कलेक्टर को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा।

शादी समारोह से जुड़े ट्रेड व्यापारी, टेंट डीलर्स, कैटरिंग डीलर्स, विवाह स्थल संचालक, लाइट डेकोरेटर, हलवाई जनरेटर ऑपरेटर, फ्लावर डेकोरेटर, घोड़ी बैंड लवाजमा, डीजे साउंड आदि विभिन्न यूनियनों से जुड़े लोग एकत्र हुए और नारेबाजी करते हुए स्टेच्यू सर्किल तक रैली निकाली। इस दौरान लोगों ने नारेबाजी भी की।

जयपुर विवाह स्थल समिति के अध्यक्ष भवानी शंकर माली ने बताया कि व्यापारियों ने जैसे तैसे अब तक अपनी जीविका चला ली, लेकिन अब तो आजीविका चलाना भी मुश्किल हो गया। सभी समितियों की ओर से एक दिवसीय प्रदर्शन कर मुख्यमंत्री के नाम कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा गया। जयपुर हलवाई केट्ट्र् कल्याण समिति के अध्यक्ष रामसहाय मीणा ने बताया कि शादी समारोह में 50 लोगों की बाध्यता हटा कर 400 लोगों की अनुमति दी जाए। शादी समारोह से जुड़े लोगों के सामने अब आजीविका चलाने का संकट खड़ा होता जा रहा है।

ज्ञापन में उठाई मांगे
— शादी समारोह में 50 मेहमानों की पाबंदी हटा कर विवाह स्थल के क्षेत्रफल के हिसाब से मेहमानों की संख्या की गाइडलाइन तय की जाए।
— विवाह स्थलों का स्थानीय नगर निगम का टैक्स वर्ष 2020-21 का माफ किया जाए।
— मार्च 2020-21 वित्तीय वर्ष का विवाह स्थलों के बिजली के बिलों पर स्थाई सेवा शुल्क माफ किया जाए व बकाया बिलों की राशि किस्तों में जमा कराने का प्रावधान किया जाए।
— नवरात्रों से धार्मिक आयोजन व नवंबर से शादी समारोह शुरू हो जाएंगे, ऐसे में सरकार को जल्द ही नई गाइडलाइन तय करनी चाहिए।

प्रदर्शन में इन समितियों के लोग हुए शामिल

— जयपुर हलवाई केट्र्स कल्याण समिति
— जयपुर विवाह स्थल समिति
— जयपुर टैंट डीलर्स समिति
— इलेक्ट्रिक समिति
— जनरेटर ऑपरेटर समिति
— फ्लावर डेकोरेशन समिति
— साउंड एवम् डीजे साउंड
— बैंड एसोसिएशन
— वीडियो फोटोग्राफर एसोसिएशन
— आर्केस्ट्रा एसोसिएशन
— बारात लाइट एसोसिएशन

COVID-19
Girraj Sharma Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned