प्रदेश में 60 से ज्यादा जगहों पर लगेंगे ऑक्सीजन प्लांट, ऑक्सीजन निर्माताओं के साथ यूडीएच—एलएसजी की वीसी

कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण के चलते प्रदेश में भी ऑक्सीजन का संकट खड़ा हो गया है। इसके लिए सरकार लगातार प्रयासरस है। अब नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल के निर्देश पर यूडीएच—एलएसजी के अधिकारियों ने मंगलवार को प्रमुख ऑक्सीजन प्लान्ट निर्माताओं से वीसी के माध्यम से एक उच्चस्तरीय बैठक की।

By: Umesh Sharma

Published: 04 May 2021, 09:01 PM IST

जयपुर।

कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण के चलते प्रदेश में भी ऑक्सीजन का संकट खड़ा हो गया है। इसके लिए सरकार लगातार प्रयासरस है। अब नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल के निर्देश पर यूडीएच—एलएसजी के अधिकारियों ने मंगलवार को प्रमुख ऑक्सीजन प्लान्ट निर्माताओं से वीसी के माध्यम से एक उच्चस्तरीय बैठक की। बैठक में प्रदेश में 60 से अधिक स्थानों पर ऑक्सीजन प्लांट लगाने के संबंध में चर्चा की गई।

बैठक में प्रमुख सचिव यूडीएच कुंजीलाल मीणा ने कहा कि कोविड-19 की द्वितीय लहर के चलते ऑक्सीजन की डिमांड बढ़ती जा रही है। प्रदेश में 50, 100, 150 व 300 बेड के अस्पताल हैं, जहां प्रतिदिन एक बेड पर 2 से 3 ऑक्सीजन सिलेण्डर की आवश्यकता है। इसे देखते हुए जिला हॉस्पिटलों में 100 सिलेण्डर, 150 सिलेण्डर, 300 सिलेण्डर प्रतिदिन की क्षमता वाले तथा जयपुर व अन्य बड़े शहरों 800 से 1000 सिलेण्डर क्षमता वाले ऑक्सीजन प्लांट लगाए जाएंगे। शासन सचिव स्वायत्त शासन विभाग भवानी सिंह देथा ने बताया कि प्रदेश के जिला अस्पताल, मेडिकल काॅलेजों में अलग—अलग क्षमताओं के ऑक्सीजन प्लांट लगाए जाने है। इन ऑक्सीजन प्लांट की क्षमता की निकाय और विकास प्राधिकरणों से जानकारी प्राप्त होगी। उसी के अनुरूप ऑक्सीजन प्लांट लगेंगे। प्लांट आधुनिक होंगे, जिनसे सीधे पाइपलाइन के माध्यम से अस्पतालों को ऑक्सीजन पहुंचाने की सुविधा उपलब्ध होगी। कुछ प्लाटों में सिलेण्डर रिफील (फिलिंग प्लांट) की सुविधा भी रखी जाएगी। जिससे ऑक्सीजन की त्वरित मांग को पूरा किया जा सकेगा। यह सभी प्लान्ट दो माह में लगाए जा सकेंगे। बैठक में जेडीसी गौरव गोयल, डीएलबी दीपक नन्दी, मुख्य अभियन्ता भूपेंद्र माथुर सहित अनेक अधिकारी मौजूद थे। गौतलब है कि ऑक्सीजन प्लांट लगाने और इसकी सहायक सामग्री क्रय करने के लिए नगरीय निकायों एवं अन्य उपापन संस्थाओं को आरटीपीपी एक्ट 2012 और नियम 2013 के प्रावधानों में राज्य सरकार द्वारा पूर्णतया छूट प्रदान की गई है।

सरकार ने मांगे प्रपोजल

बैठक में ऑक्सीजन प्लांट निर्माताओं से ऑक्सीजन प्लांट की क्षमता, टेक्नोलाॅजी, उनकी ओर से कहां-कहां किस क्षमता के प्लांट लगाए गए हैं और कितने समय में कितने प्लांट लगाए जा सकते हैं, इसके टेक्नो काॅमर्शियल प्रपोजल मांगे गए हैं। प्राप्त प्रस्तावों का तकनीकी अध्ययन कर यूडीएच मंत्री से चर्चा कर कार्यादेश जारी किए जाएंगे।

इन निर्माताओं से हुई चर्चा

वीसी में मैं न्यूबर्ग इन्जिनियरिंग लि. नोएडा के आलोक शर्मा, मै. सेम गैस प्रोजेक्ट के मो. अफसार, मै. गर्ग गैस अजमेर के महेन्द्र जोशी, मै. ओस मेडि कावया प्रा.लि. के चेतन्य गोयल, मै. यूनिसी इण्डिया प्रा.लि. की दीक्षा, मै. मेडिकल केयर सिस्टम के पी.एस. कपूर, मै. एयर टूल जोधपुर के महेन्द्र जोशी, मै. प्रायोरोटक इल्केट्राॅनिक उदयपुर, मै. केन एनर्जी प्रा.लि. के विमल भारद्वाज, मै. सागर ऑक्सीजन के विशाल व्यास शामिल हुए।

Umesh Sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned