मौसम और खाने के बारे में आपस में बातें करती हैं गायें

अध्ययन में खुलासा : खास आवाज से जाहिर करती हैं भावनाएं

सिडनी
गायों की अपनी भाषा होती है। वे भोजन और मौसम के बारे में एक दूसरे से बातें भी करती हैं। खास आवाज (रंभाना) से वे अपनी भावनाएं भी जाहिर करती हैं। ऑस्ट्रेलिया में वैज्ञानिकों ने अध्ययन के बाद इसका दावा किया है।
गायों पर अध्ययन के लिए वैज्ञानिकों ने एक सॉफ्टवेयर प्रोग्राम बनाया। इसे ‘गूगल ट्रांसलेट फॉर काउ’ नाम दिया। इसके माध्यम से वैज्ञानिकों ने खास आवाज (रंभाना) का विश्लेषण किया। सिडनी विश्वविद्यालय से पीएचडी कर रहीं शोधकर्ता एलेग्जेंड्रा ग्रीन के अध्ययन के मुताबिक गाय भी सकारात्मक, नकारात्मक और भावनात्मक स्थितियों का जवाब देती हैं। गायों में से प्रत्येक की अपनी अलग आवाज है और अपने मूड को वे खास आवाज के जरिए व्यक्त करती हैं।

यूरोपीय नस्ल पर किया शोध
जीव विज्ञानियों ने यूरोपीय नस्ल की ‘होलस्टीन फ्रेजियन हेफर’ प्रजाति की गायों पर अध्ययन किया। गायों की आवाज को एक माइक्रोफोन के जरिए कैच किया और आवाज की पिच का विश्लेषण किया। मिस ग्रीन और उनकी टीम ने पाया कि प्रत्येक गाय की अलग आवाज होती है और वे विभिन्न परिस्थितियों में खास तरह के संकेत देतीं हैं। यह संकेत उन्हें उनके समूह या झुंड के साथ संपर्क बनाए रखने में मदद करता है।

पहले भी किए जा चुके हैं इस तरह के शोध
गायों के आपस में बातें करने पर पहले भी शोध हो चुके हैं। इनमें दावा किया गया था कि वे अपने बछड़ों से खास ध्वनि में बातें करती हैं। वे उन्हें दुलारती-पुचकारती हैं। नए अध्ययन के मुताबिक गायों में उत्तेजना, संकट आदि भाव व्यक्त करने की भी क्षमता होती है। लहलहाती फसल (उनका भोजन) के लिए भी वे अलग किस्म की भावनाएं व्यक्त करती हैं।


गायों के शब्दकोश बनाने की तैयारी
इटली और फ्रांस में सहयोगियों की मदद से शोध करने वालीं ग्रीन ने दावा किया कि वे जल्द ही गायों की खास आवाज का शब्दकोश बना सकती हैं। उन्होंने बताया कि गायें जब भोजन और मौसम की बातें करती हैं तो उनकी खास आवाज अधिक मधुर होती है। उनकी टीम ने 13 फ्रेजियन गायों की सैकड़ों खास आवाजें रेकॉर्ड की हैं। 2017 में शुरू किया गया अध्ययन नेचर जर्नल में प्रकाशित हुआ है।

Vijayendra Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned