कोरोना से बचाव में बाधा बने, 3283 एफआइआर दर्ज


— लॉकडाउन व सरकारी आदेशों की पालना में पुलिस की कार्रवाई

By: Devendra Sharma

Published: 23 May 2020, 02:21 PM IST

जयपुर। कोरोना महामारी के दौरान प्रदेश में करीब 3283 एफआइआर ऐसी दर्ज हुई है, जो सिर्फ लॉकडाउन के नियमों के उल्लंघन से संबंधित है। प्रदेश में इतनी एफआइआर दर्ज होने के साथ ही 4816 आरोपियों को गिरफ्तार भी किया गया है। गौरतलब है कि लॉकडाउन के दौरान अपराध भले ही कम है, लेकिन पुलिस ने निरोधात्मक आदेश और क्वारंटीन मानदंड के तहत जमकर कार्रवाई की है। इनके अलावा पुलिस ने सोशल मीडिया पर भ्रामक और भडकाउ संदेश डालने वालों को भी नहीं बख्शा है। इसमें 207 एफआइआर दर्ज कर 221 लोगों को प्रदेशभर में गिरफ्तार किया गया।

इन कानूनों के तहत चल रही कार्रवाई

सीआरपीसी की धारा 144, आईपीसी की धारा 188 के तहत निरोधात्मक आदेशों की अवहेलना करने पर, क्वारंटीन मानदंड के अनुरूप आईपीसी की धारा 269, 270, 271 के तहत आपराधिक प्रकरण दर्ज किए गए। लोक सेवक पर हमला व राजकार्य में बाधा के तहत आईपीसी 332, 353 के तहत मामले दर्ज किए हैं। इनके अलावा राजस्थान मेडीकेयर सर्विस पर्सन एंड मेडिकल सर्विस इंस्टीट्यूट एक्ट, आपदा प्रबंधन और आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत भी कार्रवाई की गई है। राजस्थान एपिडेमिक आॅर्डिनेंस 2020 के तहत भी चालान की प्रक्रिया शुरू कर है।

चालान और गिरफ्तारी पर जोर

लॉकडाउन की अवहेलना करने वालों पर प्रदेश में बड़ी कार्रवाई की है। धारा 144 के उल्लंघन व अन्य निरोधात्मक आदेश की अवहेलना पर 16719 लोग गिरफ्तार किए गए। 3.44 लाख चालान और 1.34 लाख वाहन जब्त कर करीब 63 लाख रुपए के जुर्माने की राजस्व वसूली भी हुई है। आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत भी प्रदेश में 125 एफआईआर दर्ज कर 73 गिरफ्तारी की जा चुकी है।

24 घंटे में 2100 चालान

प्रदेश में पिछले 24 घंटों में 2100 चालान उन लोगों के बनाए गए जोकि बिना मास्क लगाए सार्वजनिक स्थान पर मिले। अबतक 13800 लोगों के चालान बनाए जा चुके है। वहीं 5599 लोगों के चालान शारीरिक दूरी नहीं करने पर कार्रवाई की गई। 45 लाख रुपए से ज्यादा का जुर्माना तो नए आॅर्डिनेंस के तहत ही वसूल लिया गया।

Devendra Sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned