समझौते के नाम पर 50 लाख मांगे, 22 लाख में सौदा तय, 3 लाख वसूलते चार पकड़े

समझौते के नाम पर 50 लाख मांगे, 22 लाख में सौदा तय, 3 लाख वसूलते चार पकड़े

Mahesh Chand Gupta | Publish: Aug, 24 2018 01:22:08 AM (IST) Jaipur, Rajasthan, India

पहले एससी-एसटी और बलात्कार का मामला दर्ज कराया, पुलिस ने दिल्ली में दो महिला सहित 4 जनों को दबोचा, नौकरानी ने दर्ज कराई थी मकान मालिक के खिलाफ एफआइआर

जयपुर. अपने मकान मालिक के खिलाफ एससी-एसटी एक्ट और बलात्कार का मामला दर्ज कराने वाली नौकरानी के चार परिचितों को ब्लैकमेलिंग के मामले में गुरुवार को दिल्ली से गिरफ्तार कर लिया।
आरोपियों ने मकान मालिक से न्यायालय में 164 के बयान उसके पक्ष में दिलाने और मामला रफा-दफा कराने के एवज में 50 लाख रुपए मांगे थे। मगर बाद में 22 लाख रुपए में सौदा तय किया। इसके तहत गुरुवार को दिल्ली में 3 लाख रुपए अग्रिम देना तय हुआ। मकान मालिक की सूचना पर पुलिस ने दिल्ली में घेराबंदी कर ब्लैकमेलिंग की 3 लाख रुपए रकम लेने आए एक दम्पती को पकड़ लिया और उनकी निशानदेही से रकम मांगने वाली एक महिला सहित दो लोगों को और पकड़ लिया। डीसीपी विकास पाठक ने बताया कि मुकदमा दर्ज कराने के बाद नौकरानी का मेडिकल करवाया गया। 161 के बयान दर्ज किए गए। बाद में उसे 164 के बयान देने के लिए बुलाया गया और नोटिस भी जारी किया, लेकिन वह नहीं आई। उधर, मुकदमा दर्ज होने के कुछ दिन बाद से मकान मालिक शौर्य कटारा से नौकरानी को काम पर रखवाने वाली प्लेसमेंट कंपनी के सौरभदास और विमला मामले में बचने के लिए 50 लाख रुपए की मांग करने लगे थे। इस संबंध में अशोकनगर थाने में मुकदमा दर्ज होने के कुछ दिन बाद ही आरोपित शौर्य के पिता ने ब्लैकमेल करने की शिकायत दी थी।

छह माह पहले नौकरी पर लगी, साढ़े आठ माह का गर्भ

पुलिस ने बताया कि 8 अगस्त को नौकरानी ने अशोक नगर थाने में मामला दर्ज कराया था। तब उसके साढे आठ माह का गर्भ था। छह माह से मकान मालिक के घर काम करना बताया गया था। नौकरानी ने काम पर रहने के दौरान उससे कई बार बलात्का करने का मामला और मारपीट कर अभद्रता करने का मामला दर्ज कराया था। पुलिस इस मामले की भी अलग से जांच कर रही है।

इन दलालों को पकड़ा

थानाधिकारी हेमेन्द्र शर्मा ने बताया कि गिरफ्तार सौरभदास मूलत: पश्चिम बंगाल हाल नई दिल्ली, जगदेव बेहुरिया उसकी पत्नी लक्ष्मी मूलत: उड़ीसा हाल नई दिल्ली और विमला देवी नई दिल्ली निवासी है। डीसीपी पाठक ने बताया कि मकान मालिक ने नौकरानी के लिए विमला से संपर्क किया, विमला ने सौरभ के जरिए नौकरानी को भेजा था। मामला दर्ज होने के बाद दोनों ब्लैकमेल कर रहे थे और दम्पती को ब्लैकमेलिंग की रकम लेने दिल्ली स्थित एक अस्पताल के पीछे भेजा था। गिरफ्तार आरोपियों को न्यायालय में पेश किया, जहां से दोनों महिलाओं को एक दिन और पुरुषों को दो दिन के पुलिस रिमांड पर सौंपा है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned