फसलों पर संकट, न मशीनें मिल रही और न मजदूर

कोरोना से किसान परेशानी में कृषि विभाग ने दिशा-निर्देश जारी किए

कोटा. हाड़ौती समेत प्रदेश के ज्यादातर जिलों में गेहूं की फसल पककर खेतों में तैयार खड़ी है, लेकिन कोरोना के बढ़ते संक्रमण के कारण फसल कैसे कटेगी, इसकी चिंता किसानों को सता रही है। एक तरफ मजदूर नहीं मिल रहे और दूसरी तरह बारिश ने चिंता बढ़ा दी है। वहीं पंजाब से आने वाली मशीनों की उपलब्धता भी नहीं हो रही।
इसी बीच कृषि विभाग ने फसल कटाई की एडवाजरी जारी की है। इसके अनुसार मशीन चलित उपकरणों से फसल की कटाई होगी। हस्तचलित उपकरणों का उपयोग एक व्यक्ति से ज्यादा नहीं कर सकेगा। श्रमिकों को बार-बार साबुन से हाथ धोना पड़ेगा। कटाई कार्य के पहले दिन पहने कपड़ों को दूसरे दिन काम नहीं लेने की सलाह दी गई है। कटाई के दौरान सभी लोगों को अलग-अलग पानी की बोतल रखनी होगी। खेत में पर्याप्त मात्रा में पानी और साबुन रखना होगा। थ्रेसर पर कार्य करते समय मास्क लगाना होगा। इसके साथ दूर-दूर रखकर कार्य करना होगा। श्रमिक को खांसी, जुकाम या बुखार होने पर कटाई से अलग रखना होगा और तत्काल स्वास्थ्यकर्मी को सूचित करना होगा।

किसानों के सामने गंभीर समस्या
अभी पंजाब और श्रीगंगानगर से गेहूं की फसलों को काटने के लिए आने वाली हार्वेस्टर मशीनों की आवाजाही पर भी रोक लगा दी गई है। इस कारण किसानों के सामने गंभीर समस्या खड़ी हो गई है। राज्य सरकार ने प्रदेश में खरीद के लिए २०४ केन्द्र बनाने की मंजूरी दी है।
फसल कटाई की एडवाइजरी जारी की गई है। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए इसकी पालना आवश्यक है। किसानों को इसकी पालना करनी होगी। ओम कसेरा, जिला कलक्टर, कोटा
हाड़ौती में गेहूं की बुवाई की स्थिति
जिला बुवाई
कोटा १६५२४२
बूंदी १७५६९५
बारां १७८४४६
(बुवाई हैक्टेयर में)

प्रदेश में खरीद केन्द्रों की स्थिति
संभाग एफसीआई राजफैड तिलम
संघ
कोटा ३५ ३ ९
अजमेर ६ ७ ०
भरतपुर १२ १२ १
जयपुर ७ १३ ०
उदयपुर २९ १६ ०
बीकानेर ३८ ६ ८
जोधपुर ० २ ०

jagdish paraliya
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned