राजस्थान में किसानों की कर्जमाफी से पहले ही पाला पड़ने के कारण फसलें नष्ट, दोहरी मार से परेशान धरतीपुत्र

https://www.patrika.com/rajasthan-news/

By: Nidhi Mishra Nidhi Mishra

Published: 18 Dec 2018, 02:10 PM IST

गोविंदगढ़/जयपुर। राजस्थान में सर्दी ने अपना सितम दिखाना शुरू कर दिया है। जयपुर जिले के चौमूं उपखंड के विभिन्न गांवों में सर्दी के कारण खेतों की मेड़ों पर बर्फ जम गई। वहीं अगेती सरसों व खेतों में बोई गई सब्जी भी सर्दी के कारण झुलस गई। चौमूं उपखण्ड विभिन्न गांवों में अगेती सरसों किसानों ने खेतों में बो रखी है, जबकि कई स्थानों पर किसानों ने नगदी फसल के रूप में सब्जी की बुवाई कर रखी है। रात को पाला पड़ने के कारण खेतों की मेड़ों पर जहां बर्फ जम गई, वहीं बर्फ की परत सब्जी व सरसों की फसलों पर भी जम गई। जिससे अगेती सरसों की फलियों में दाने नष्ट होने के साथ ही खेतों में बोई गई सब्जियां भी नष्ट हो गईं। इससे किसानों को आर्थिक नुकसान हुआ। मंगलवार को दिन में चलने वाली हवा भी नश्तर सी चुभती रही। हालांकि धूप खिली, लेकिन धूप खिलने के बाद भी हवा में ठंड होने के कारण गलन बरकरार रही।


उधर, जैसलमेर जिले के मोहनगढ़ क्षेत्र में मंगलवार को शरीर को गला देने वाली ठंडक का दौर जारी रहा। मंगलवार की सुबह को मोहनगढ़ कस्बे का न्यूनतम तापमान 6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। कड़ाके ठंडक के चलते ग्रामीणों को सुबह देर तक रजाइयों में दुबकने को मजबूर होना पड़ रहा है। कस्बे के बाजार में सुबह के समय पहुंचने वाले दुकानदार, यात्री, राहगीर, वाहन चालक आदि सर्दी से बचने के लिए अलाव तापते नजर आए। सर्दी के बढ़ने से ग्रामीण दिन भर ऊनी कपड़ों में लिपटे नजर आए। मंगलवार को दिन में तेज धूप भी खिली मगर कड़ाके की ठंडक से राहत नहीं दिला पाई।

winter stroke in Jaisalmer
Nidhi Mishra Nidhi Mishra
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned