केन्द्र से मिले करोड़ों रुपए, विभाग से खर्च तक नहीं होते

केन्द्र से मिले करोड़ों रुपए, विभाग से खर्च तक नहीं होते....

By: Ashish Sharma

Published: 23 Mar 2018, 07:13 PM IST

जयपुर
राजस्थान में कृषि विभाग में कामकाजों की रफ्तार काफी कितनी सुस्त है, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि विभाग केन्द्र से मिले बजट तक को समय पर खर्च तक नहीं कर पा रहा है। अधिकतर विभाग बजट की कमी की बात कहते रहते हैं लेकिन कृषि विभाग में स्थिति उलट है। विभाग मिले हुए बजट को खर्च करने में भी कंजूसी कर रहा है। कृषि विभाग पिछले तीन सालों में केन्द्र की ओर से आवंटित किया गया बजट समय से खर्च नहीं कर पा रहा है।

दरअसल, राष्ट्रीय कृषि विकास योजना के तहत राज्य को विभिन्न परियोजनाओं में केन्द्र से कृषि—पशुपालन के विभिन्न प्रोजेक्ट और योजनाओं के लिए बजट आवंटित किया जाता है। लेकिन 2015—16 से मिलने वाले बजट को कृषि विभाग एक बार भी सही समय से खर्च नहीं कर पा रहा है। समय पर राशि खर्च नहीं करने से योजनाओं की क्रियान्विति भी प्रभावित हो रही है। हर साल बजट राशि बच जाती है। इसके बाद विभाग शेष राशि को नए वित्तीय वर्ष के लिए उपयोग में लेने की अनुमति मांगता है। सही समय से योजनाओं में बजट को खर्च नहीं कर पाने के कारण भी विभाग को केन्द्र से मिलने वाली राशि भेजे गए प्रस्तावों की तुलना में काफी कम मिल रही है।

हालांकि बजट में मिली राशि सही समय से खर्च नहीं कर पाने के लिए वजह कृषि विभाग बजट मिलने और मांगों के अनुमोदन में होने वाली देरी को बता रहा है। विभाग का कहना है कि केन्द्र से जो राशि मिलती है उसकी एक किश्त जुलाई में जबकि दूसरी किश्त दिसबंर में मिलती है। विभिन्न कारणों से योजनाओं के क्रियान्वयन में दो महीने की देरी होती ही है।

 

बजट का हिसाब किताब

वर्ष 2015-16
बजट मिला-601 करोड़
खर्च किया-537 करोड़
बची राशि-63 करोड़

वर्ष 2016-17
बजट मिला-514 करोड़
खर्च किया-496 करोड़
बची राशि-17 करोड़

वर्ष 2017-18
बजट मिला-416 करोड़
खर्च किया-जनवरी तक 217 करोड़ खर्च

Show More
Ashish Sharma Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned