बजरी माफिया का दुस्साहस, पुलिस चौकी पर किया पथराव

बजरी माफिया (Gravel mafia) अब पुलिस पर हमला करने से नहीं चूक रहे हैं। गुरुवार तड़के राष्ट्रीय राजमार्ग जयपुर आगरा स्थित ऊंचा नगला पुलिस चौकी (police station) पर बजरी खनन से जुड़े लोगों ने रूपवास की ओर जाते समय चौकी पर पत्थर फेंके। इससे पुलिसकर्मी घायल (Policemen injured) होने से बाल-बाल बच गए।

By: vinod

Published: 19 Mar 2020, 11:16 PM IST

भरतपुर। बजरी माफिया (Gravel mafia) अब पुलिस पर हमला करने से नहीं चूक रहे हैं। गुरुवार तड़के राष्ट्रीय राजमार्ग जयपुर आगरा स्थित ऊंचा नगला पुलिस चौकी (police station) पर बजरी खनन से जुड़े लोगों ने रूपवास की ओर जाते समय चौकी पर पत्थर फेंके। इससे पुलिसकर्मी घायल (Policemen injured) होने से बाल-बाल बच गए। इस घटना में पुलिस चौकी पर लगी लोहे की जाली टूट कर गिर गई। अचानक हुए इस हमले से पुलिसकर्मी संभल नहीं पाए और उन्हें चौकी के अंदर छिपना पड़ा।
बताया जा रहा है कि चंबल की प्रतिबंधित बजरी लदे कुछ ट्रैक्टर भरतपुर शहर में अवैध तरीके से बजरी डालकर वापस रूपवास होते हुए जा रहे थे। यहां आगरा रोड पर सुबह के समय बॉर्डर की पुलिस चौकी ऊंचा नगला से रूपवास की तरफ जाते समय बजरी खनन से जुड़े लोगों ने ट्रैक्टर-ट्रॉली में से चौकी पर जमकर ईंट-पत्थर फेंके। अचानक हुई इस घटना से चौकी के पुलिसकर्मी काफी भयभीत हो गए और उन्हें बचने के लिए अंदर की तरफ भागना पड़ा। पत्थर फेंकने का क्रम करीब 10 मिनट तक चला। इसके बाद ट्रैक्टर-ट्रॉली पर सवार लोग तेज रफ्तार से ऊंचा नगला से रूपवास की तरफ भाग निकले। इस घटना में चौकी की लोहे की जाली टूट कर गिर गई, जबकि चौकी पर एक पत्थर जगह-जगह बिखरे पड़े हुए हैं। घटना के संबंध में चौकी स्टाफ ने थाने को सूचना दी, लेकिन उससे पहले ही यह लोग भाग छूटे। गौरतलब है कि इन दिनों पड़ोसी जिले धौलपुर से चंबल की प्रतिबंधित बजरी का अवैध रूप से भरतपुर जिले में रूपवास के रास्ते परिवहन हो रहा है। बजरी खनन से जुड़े लोग रात के समय बड़ी संख्या में ट्रैक्टर-ट्रॉलियों में बजरी लादकर रूपवास से भरतपुर की तरफ आते हैं। भरतपुर में यह कुछ जगह पर बजरी डाल कर चले जाते हैं, जबकि कुछ बजरी आसपास के इलाकों में सप्लाई हो रही है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned