शिक्षा में बेटियों का सपना होगा साकार


अब मेधावी अनाथ बालिकाओं को पढ़ाएगी सरकार
मुख्यमंत्री हमारी बेटी योजना
हर जिले से एक छात्रा का होगा चयन

By: Rakhi Hajela

Updated: 08 Oct 2020, 02:45 PM IST


राज्य की अनाथ और बीपीएल परिवार की मेधावी बेटियों क को पढ़ाने की व्यवस्था सरकार करेगी। यह सब मुख्यमंत्री हमारी बेटी योजना के तहत होगा। सरकार का मानना है कि आर्थिक परिस्थिति के चलते लड़कियां शिक्षा हासिल नहीं कर पाती इसलिए सरकार ऐसी मेधावी लड़कियों को तलाश कर उनकी शिक्षा का स्तर ऊंचा उठाएगी जिससे वह आगे बढ़ सकें। चयनित बेटियां खेलकूद, इंजीनियरिंग, मेडिकल या किसी अन्य क्षेत्र में आगे बढऩा चाहती हैं तो सरकार उसे अलग से वित्तीय सहायता प्रदान भी करेगी।

दी जाएगी निशुल्क शिक्षा
योजना के तहत मेधावी छात्राओं का चयन किया जाएगा और उन्हें निशुल्क शिक्षा प्रदान की जाएगी। योजना के तहत अब परीक्षा में 75 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त करने वाली पात्र तीन छात्राओं को सूची में शामिल किया जाएगा, जिसमें दो सर्वोच्च अंक और एक बीपीएल परिवार की सर्वोच्च अंक प्राप्त करने वाली छात्रा का भी चयन होगा। साथ ही एक जिले में सर्वोच्च अंक प्राप्त करने वाली अनाथ परिवार की बेटी का भी चयन होगा। चयनित बेटियां खेलकूद, इंजीनियरिंग, मेडिकल या किसी अन्य क्षेत्र में आगे बढऩा चाहती हैं तो सरकार उसे अलग से वित्तीय सहायता प्रदान भी करेगी।

ऐसे दी जाएगी वित्तीय मदद
इस योजना में राज्य के 33 जिलों में से 99 छात्राओं का चयन किया जाएगा।
योजना के तहत प्रति छात्रा अधिकतम 1 लाख रुपए तक हर साल खर्च किया जाएगा।
योजना के तहत 11वीं कक्षा, व्यवसायिक शिक्षा, प्रशिक्षण से स्नातकोत्तर की शिक्षा,प्रशिक्षण प्राप्त करने तक वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी।
11वीं और 12वीं कक्षा में पढऩे वाली लड़कियों 15 हजार रुपए और उच्च शिक्षा के लिए 25 हजार रुपए की वित्तीय सहायता देगी।
योजना के तहत चयनित छात्राओं को कक्षा 11वीं व 12वीं,व्यवसायिक शिक्षा, शिक्षण संस्थान में अध्ययन शुल्क, खेल विद्यालय, खेल कोचिंग संस्थानों में प्रशिक्षण, प्रतियोगी परीक्षाओं की कोचिंग शुल्क, छात्रावास शुल्क आदि राशि का वास्तविक व्यय भुगतान संस्थानों के बैंक खाते में जमा कर दिया जाएगा।
योजना के तहत प्रति छात्रा अधिकतम 1 लाख रुपए तक प्रतिवर्ष व्यय किया जाएगा।
छात्रा को किताबें, स्टेशनरी, यूनिफॉर्म आदि के लिए 25000 रुपए वार्षिक प्रदान किए जाऐंगे।
योजना का उद्देश्य
पिछड़े एवं अल्प आय वाली होनहार बालिका आर्थिक समस्याओं के कारण उच्च शिक्षा के क्षेत्र में आगे बढ़कर अपने सपने साकार करने में असमर्थ है और अन्य प्रतिस्पर्धियों से पिछड़ जाती है। इसको ध्यान में रखते हुए बेटियों को समृद्ध बनाने के लिए इस योजना को शुरू किया गया है।

Rakhi Hajela Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned