‘मशीन गन’ की तरह चला दौसा सांसद का ट्विटर, महज़ 15 मिनिट में कर डाले गहलोत सरकार विरोधी 83 ट्वीट्स

Patrika Special… सांसद जसकौर मीणा का ट्विटर प्लेटफोर्म पर ‘हल्ला बोल’, सुबह से ही चल पड़ा धडाधड ट्वीट्स का सिलसिला, ‘गहलोत सरकार होश में आओ’ हैश टैग से जमकर हुए ट्वीट्स, महिला अत्याचारों, बिजली कीमतों में बढ़ोतरी पर साधा निशाना, सरकार को हर मोर्चे पर बताया विफल, संभवतः पहली बार किसी सांसद के अकाउंट से इस रफ्तार से ट्वीट्स

By: nakul

Updated: 29 Aug 2020, 12:30 PM IST

जयपुर।

दौसा सांसद जसकौर मीणा के ऑफिशियल ट्विटर हैंडल पर आज सुबह होने के साथ ही तहलका मचा हुआ नज़र आया। एक के बाद एक हुए ट्वीट्स की रफ़्तार मानो कोई मशीन गन की तरह रही। धडाधड ट्वीट्स का सिलसिला ऐसा चला कि महज़ 15 मिनट में ही उनके अकाउंट से होने वाली ट्वीट्स की संख्या 80 को भी पार कर गई। इन सभी ट्वीट्स की ख़ास बात ये भी रही कि ये सभी प्रदेश की गहलोत सरकार के विरोध में किये गए।

सांसद जसकौर मीणा ने लगभग सभी ट्वीट्स हैश टैग ‘गहलोत सरकार होश में आओ’ से हुए। लिहाजा अंदाजा लगाया जा रहा है कि ट्विटर ट्रेंड करवाने की मंशा से एक ही हैश टैग से धडाधड ट्वीट्स किये गए हों। ट्वीट का सिलसिला आज सुबह 10 बजकर 09 मिनट से शुरू हुआ।

महज़ 15 मिनिट के दरम्यान कुल अलग-अलग कुल 83 ट्वीट प्रतिक्रियाओं में दौसा सांसद ने गहलोत सरकार की कार्यशैली को चौतरफा घेरने की कोशिश की है। ज़्यादातर ट्वीट्स महिला अत्याचारों से जुड़े हुए रहे। इसके अलावा पानी-बिजली-रोज़गार सहित अन्य कई मुद्दों पर उन्होंने सरकार पर निशाना साधा।

महिला अत्याचार पर बरसीं सांसद
सांसद ने प्रदेश में बढ़ते महिला अपराधों पर चिंता जताते हुए कई ट्वीट्स किये। उन्होंने लिखा, ‘राजस्थान में महिलाओं पर अत्याचार चरम पर हैं। दलित व नाबालिग लड़कियों के साथ गैंग रेप की घटनाएं हो रही हैं। आंकड़े बताते हुए दौसा सांसद ने बताया कि प्रदेश में महिला अत्याचार की घटनाओं में 20 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। हर रोज 9 नाबालिग बेटियों और 17 महिलाओं से रेप की वारदातें हो रही हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर निशाना साधते हुए कहा कि गृह विभाग आपके पास होकर भी सरकार महिला सुरक्षा के मामले में बिल्कुल विफल साबित हो रही है।

बिजली मुद्दे पर भी जमकर घेरा
सांसद ने महिला अत्याचार के अलावा बिजली बिल में बढ़ोतरी को भी प्रमुखता से उठाया। उन्होंने लिखा, ‘प्रदेश सरकार ने कोरोना संकटकाल में पहले से बिजली के बिलों की मार झेल रहे उपभोक्ताओं से अब फ्यूल सरचार्ज के नाम पर वसूली शुरू की है, जो उनकी जेब पर भारी पड़ेगी।

सांसद ने कहा सरकार ना केवल आम व्यक्ति को बोझ दे रही है बल्कि प्रदेश की औद्योगिक कारखानो को बंद करने के कगार पर ला रही है। उन्होंने सरकार को हर मोर्चे पर विफल करार दिया।

Show More
nakul Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned