गतिरोध टूटा...गुर्जरों से बातचीत शुरू

Sanjay Kaushik

Publish: Feb, 16 2019 01:42:26 AM (IST)

Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

गतिरोध टूटा...गुर्जरों से बातचीत शुरू

-आश्वासन पत्र पर अटकी बात

-सरकार ने सभी मांगों पर बनाकर दिया मसौदा

-सरकार के आश्वासन पत्र का इंतजार

-गुर्जर आरक्षण आंदोलन जारी, आज पटाक्षेप की उम्मीद

-पटरी पर बैठे गुर्जरों को मनाने शनिवार को फिर जाएंगे विश्वेंद्र सिंह

जयपुर। राजस्थान में गत आठ दिनों से चल रहे गुर्जर आरक्षण आंदोलन का गतिरोध समाप्त हो गया और शुक्रवार को गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति की राज्य सरकार के साथ बातचीत शुरू हो गई। हालांकि गुर्जर आरक्षण आंदोलन शुक्रवार को आठवें दिन भी जारी रहा। दिनभर सरकार के आश्वासन पत्र का इंतजार करते रहे। राज्य की गहलोत सरकार ने शुक्रवार को गुर्जर समुदाय की सभी मांगों को लेकर समझौते का मसौदा तैयार कर लिया है। अब पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र सिंह शनिवार को सुबह समझौता पत्र का मसौदा लेकर आंदोलनकारियों के बीच जाएंगे। चर्चा के बाद इसे अंतिम रूप दिया जाएगा।

-सरकार दे रही मजबूत पैरवी का भरोसा

राजस्थान विधानसभा से गुर्जर सहित पांच अति पिछड़ी पांच जातियों को पांच प्रतिशत आरक्षण देने के प्रावधान का विधेयक पारित हो चुका है। इस पर राज्यपाल के भी दस्तखत हो गए, लेकिन गुर्जर आरक्षण समिति को आशंका है कि पहली ही तरह यह बिल भी कोर्ट में अटक जाएगा। गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति सरकार से गारंटी चाहती है कि यह बिल कोर्ट में नहीं अटके। सरकार मामला कोर्ट में जाने की स्थिति में मजबूत पैरवी का आश्वासन दे रही है, लेकिन आंदोलनकारी लिखित आश्वासन चाहते हैं। अब शनिवार को समझौते पत्र के मसौदे को लेकर पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र सिंह आंदोलनकारियों के बीच जाएंगे। उम्मीद की जा रही है कि शनिवार को गुर्जर आरक्षण आंदोलन का पटाक्षेप हो जाएगा।

-दिनभर चला वाताओं का दौर

शुक्रवार को सरकार की ओर से दिनभर आंदोलन खत्म कराने के लिए प्रयास चलते रहे। इसे लेकर दोपहर ढाई बजे से शाम सात बजे तक गुर्जर प्रतिनिधियों एवं सरकार के बीच वार्ता चली, लेकिन वार्ता के बाद गुर्जर प्रतिनिधि ट्रैक पर ही आंदोलन के बारे में फैसला लेने की बात कहकर चल दिए। रात आठ बजे तक गुर्जरों की ओर से आंदोलन खत्म करने को लेकर कोई निर्णय नहीं किया था। गुर्जर समाज के लोग ट्रैक पर ही बैंसला के फैसले का इंतजार करते नजर आए।

-आईएएस पवन ने दिया वार्ता का न्योता

इससे पहले आंदोलन खत्म कराने के लिए सरकार ने शुक्रवार सुबह से दोपहर तक गुर्जरों से वार्ता के प्रयास किए। आईएएस नीरज के. पवन मकसूदनपूरा रेल ट्रैक पर पहुंचे, और वार्ता का न्योता दिया। इनके बाद कर्नल किरोड़ी सिंह बैसला ने गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के प्रवक्ता शेलेन्द्र सिंह , बैसला के बेटे विजय बैसला, जगदीश गुर्जर को वार्ता के लिए मलारना डूंगर राजीव सेवा केंद्र भेजा। दोपहर ढाई बजे वार्ता शुरू हुई। तीनों नीरज के. पवन के साथ कार में आए। वहां पर गुर्जर प्रतिनिधि मंडल ने सरकार के प्रतिनिधि पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र सिंह तथा आईएएस नीरज के पवन के समक्ष पांच सूत्री मांगे रखी। इसमें मुख्य रूप से गुर्जर आरक्षण विधेयक की कानूनी सुरक्षा को लेकर मांग थी। करीब तीन बजे इस मांग पत्र को राज्य सरकार को भेजा गया।

-शाम को आया सरकार का जवाब
शाम करीब छह बजे राज्य सरकार ने गुर्जरों के पांच सूत्री मांग पत्र पर शाम करीब पौने छह बजे जवाब दिया। हालाकि गुर्जर प्रतिनिधियों ने चार मांगों पर सहमति प्रकट कर दी। जबकि एक मांग को लेकर संशय बरकरार रहा। इन मांगों के बारे में सरकार एवं गुर्जर प्रतिनिधियों ने खुलासा नहीं किया।

-अलवर-जयपुर मार्ग बंद

आरक्षण की मांग को लेकर शुक्रवार दोपहर गुर्जरों ने नटनी का बारा पर जाम लगाकर अलवर-जयपुर मार्ग बंद कर दिया। रोडवेज बसें व अन्य चौपहिया वाहनों के जाम में फंसने से राहगीरों को काफी परेशानी हुई। जाम को देखते हुए रोडवेज ने अलवर-जयपुर वाया नटनी का बारा मार्ग पर बसों का संचालन बंद कर दिया। जाम के कारण एंबुलेंस भी जाम फंस गई, जिससे मरीजों को परेशानी हुई।

-गुलाबपुरा-उनियारा हाई-वे छठे दिन और देई-बूंदी तीसरे दिन भी जाम
गुर्जर आरक्षण की मांग को लेकर शुक्रवार को गुर्जर समाज के लोगों ने हाइवे 52 पर चतरगंज के निकट जाम लगा दिया। इससे बूंदी-जयपुर के बीच वाहनों का संचालन बंद हो गया। गुलाबपुरा-उनियारा हाइवे पर नैनवां के निकट टोपा गांव में गुर्जर समाज के लोग शुक्रवार को छठे दिन भी मार्ग रोककर बैठे रहे। स्टेट हाइवे-34 देई-बूंदी को जैतपुर तिराहे पर तीसरे दिन भी जाम किए रखा।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned