scriptDeath of Sadhu Vijay Das, who committed self-immolation against mining | भरतपुर की पहाड़ियों में खनन के खिलाफ आत्मदाह करने वाले साधु विजय दास की मौत, पोस्टमार्टम को भेजा शव | Patrika News

भरतपुर की पहाड़ियों में खनन के खिलाफ आत्मदाह करने वाले साधु विजय दास की मौत, पोस्टमार्टम को भेजा शव

अवैध खनन के विरोध में भरतपुर के डीग में आत्मदाह का प्रयास करने वाले संत को दिल्ली के एक अस्पताल में मृत घोषित कर दिया गया है। उनका पोस्टमार्टम सुबह 9 बजे के लिए निर्धारित किया गया है।

जयपुर

Updated: July 23, 2022 10:12:07 am

आखिर राजस्थान के भरतपुर में पहाड़ियों से खनन बंद करने के विरोध में आत्मदाह करने वाले साधु विजय दास की मौत हो गई है। जिले में करीब डेढ़ साल से साधु खनन के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं और साधुओं के साथ स्थानीय लोग भी खानों पर प्रतिबंध लगाने की मांग कर रहे थे। प्रशासन ने साधुओं को इस क्षेत्र से खदानों को स्थानांतरित करने का आश्वासन भी दिया और उन्हें राज्य सरकार की योजना के बारे में बताया कि आसपास के क्षेत्र को एक धार्मिक पर्यटन स्थल में बदल दिया जाएगा।

sadhu_vijay_das_dies.jpg

इन खदानों को स्थानांतरित किया जाएगा और लगभग 2,500 लोग जो परिणामस्वरूप बेरोजगार होंगे, उनको कहीं और नियोजित कर दिया जाएगा। कहा गया कि राज्य सरकार इस इलाके को (पत्थर खनन क्षेत्र) एक धार्मिक पर्यटन स्थल बनाने का इरादा रखती है। लेकिन इस बीच मंगलवार सुबह को एक साधु जिले के डीग में पत्थर खनन का विरोध करने के लिए एक मोबाइल टावर पर चढ़ गया और फिर ये हादसा सामने आ गया। शासन के प्रयास कागज से आगे बढ़ते उसके पहले ही एक साधु की जान अब सिर्फ कागजों और लोगों की यादों में ही रह गई है।

दिल्ली में चल रहा था इलाज

भरतपुर पहाड़ी के एसडीओ संजय गोयल ने बताया कि बीती 21 जुलाई को आत्मदाह करने वाले साधु विजय दास की शुक्रवार की देर रात इलाज के दौरान मौत हो गई है। दास का दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में इलाज चल रहा था। गोयल ने बताया कि शनिवार सुबह दास की बॉडी पौस्टमार्टम के बाद उनके घरवालों के सुपुर्द कर दी जाएगी।

भाजपा ने किया विरोध प्रदर्शन

इससे पहले डीग के गांव पसोपा में आदिबद्री एवं कनकांचल पर्वत को खनन मुक्त कराने की मांग को लेकर साधु के आत्मदाह की कोशिश करने के मामले को लेकर शुक्रवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने जिला कलेक्ट्रेट पर विरोध प्रदर्शन किया। इस बीच कलक्ट्रेट परिसर में प्रवेश को लेकर भाजपा नेताओं एवं पुलिसकर्मियों के बीच धक्का-मुक्की भी हो गई। प्रदर्शनकारियों ने राज्य सरकार एवं पुलिस के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

दिल्ली में चल रहा था इलाज

एसडीओ संजय गोयल ने बताया कि बीती 21 जुलाई को आत्मदाह करने वाले साधु विजय दास की शुक्रवार की देर रात इलाज के दौरान मौत हो गई है। दास का दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में इलाज चल रहा था।

भाजपा ने गठित की पांच सदस्यीय समिति

संत विजयदास आत्मदाह मामले के संबंध में भाजपा ने पांच सदस्यीय जांच समिति का गठन किया है। भाजपा के प्रदेश महामंत्री भजन लाल शर्मा ने बताया कि डा पूनियां के निर्देशानुसार इस संदर्भ में जांच कमेटी गठित की गई है। यह कमेटी तुरंत प्रभाव से भरतपुर जाकर संपूर्ण तथ्यों की निष्पक्ष जांच कर डॉ पूनिया को अपनी रिपोर्ट करेगी। उन्होंने बताया कि समिति में सांसद बाबा बालकनाथ, पूर्व मंत्री प्रभुलाल सैनी, गजेन्द्र सिंह खींवसर, पूर्व विधायक राजकुमारी जाटव एवं जिला प्रभारी बनवारी लाल सिंघल को शामिल किया गया है। बता दें कि बुधवार को भरतपुर के पसोपा गांव में संत विजय दास ने अवैध खनन के विरोध में खुद को आग लगा लेने से वह गंभीर रूप से झुलस गए थे।

अब जागी है सरकार

घटना के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इस पूरे मसले के समाधान के लिए आनन-फानन में बैठक बुलाई। इसमें खान और पुलिस विभाग के अधिकारी मौजूद थे। वहीं इस मसले में पर राजस्थान में सियासत भी गरमा गई है. बीजेपी और कांग्रेस में बयानबाजी का दौर शुरू हो गया है। साधु के आत्मदाह के प्रयास के बाद धरनास्थल पर हुये समझौते के अनुसार इस इलाके को पूर्व में जिला कलेक्टर की ओर से भेजे गये प्रस्ताव के मुताबिक वन क्षेत्र घोषित किया जायेगा। इस बीच इसी मसले को लेकर मोबाइल टावर चढ़े साधु भी बुधवार दोपहर बाद नीचे उतर आये हैं।

गोवर्धन परिक्रमा क्षेत्र में आदि पर्वत पर करीब 25 से अधिक खानें आवंटित

दरअसल राजस्थान सरकार ने गोवर्धन परिक्रमा क्षेत्र में आदि पर्वत पर करीब 25 से अधिक खानों का आवंटन कर रखा है। संत समाज मांग कर रहे कि इन वैध और अवैध सभी तरह की खानों को बंद किया जाये ताकि भगवान कृष्ण की क्रीड़ा स्थली को बचाया जा सके और इसे वन क्षेत्र घोषित किया जाए। पिछले करीब 2 साल से इसी मांग को लेकर साधु-संत आंदोलन कर रहे हैं। इस मसले को लेकर सरकार से कई दफा बातचीत भी हुई लेकिन कोई नतीजा नहीं निकल पाया।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Bihar Political Crisis Live Updates: नीतीश कुमार मुख्यमंत्री और तेजश्वी यादव डिप्टी सीएम पद की कल दोपहर 2 बजे लेंगे शपथनीतीश ने सरकार बनाने का दावा पेश किया, कहा- हमें 164 विधायकों का समर्थनरवि शंकर प्रसाद ने नीतीश कुमार से पूछा बीजेपी के साथ क्यों आए थे? पीएम मोदी के नाम पर आपको जीत मिली, ये कैसा अपमान?पश्चिम बंगाल के बीरभूम में दर्दनाक हादसा, ऑटोरिक्शा और बस की टक्कर में 9 लोगों की मौत, पीएम मोदी ने जताया दुख'मुफ्त रेवड़ी' कल्चर मामले में सुप्रीम कोर्ट में आमने-सामने AAP और BJP, आम आदमी पार्टी ने कहा- PM मोदी ने 'दोस्तवाद' के लिए खाली किया देश का खजाना23 बार की ग्रैंड स्लैम चैंपियन सेरेना विलियम्स ने अचानक किया रिटायरमेंट का ऐलान, फैंस हुए भावुकMaharashtra Cabinet Expansion: कौन है सीएम शिंदे की नई टीम में शामिल 18 मंत्री? तीन पर लगे है गंभीर आरोपBihar New Govt: नीतीश कुमार CM, डिप्टी CM व होम मिनिस्ट्री राजद के पाले में, कांग्रेस से स्पीकर बनाए जाने की चर्चा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.