पैरों को क्रॉस करके बैठने से हो सकती है डीप वेन थ्रोंबोसिस की समस्या

आमतौर पर यह समस्या लंबे समय तक बैठने के कारण होती है। इससे पैरों का रक्त प्रवाह बाधित होता है एवं रक्त का थक्का जमने की आशंका बढ़ जाती है।

By: Archana Kumawat

Updated: 24 Dec 2020, 09:15 AM IST

शरीर की भीतरी नसों में रक्त का थक्का जम जाना डीप वेन थ्रोंबोसिस कहलाता है। इस वजह से पैरों की पिंडलियों में दर्द होने लगता है। कई बार यह थक्के पैरों से निकलकर फेफड़ों में पहुंचकर रक्त प्रवाह को अवरुद्ध करते हैं। इसे पल्मोनरी एंबोलिज्म कहा जाता है। आमतौर पर यह समस्या लंबे समय तक बैठने के कारण होती है। इससे पैरों का रक्त प्रवाह बाधित होता है एवं रक्त का थक्का जमने की आशंका बढ़ जाती है। आइए जानते हैं रोग के कारण और इससे बचाव संबंधी जरूरी बातें-

मोटापे की वजह से भी बन सकता है नसों में थक्का
पैरों में किसी कारण रक्त प्रवाह का कम होना जैसे चोट लगने या फैक्चर होना, प्रेंग्नेसी के समय, लंबे समय तक पैर मोडक़र बैठना (इकोनॉमी क्लास सिंड्रोम) आदि की वजह से डीप वेन थ्रोंबोसिस का जोखिम बढ़ जाता है। इसके अलावा मोटापा, स्टेरॉइड या गर्भ निरोधक दवाइयों का प्रयोग, विटामिन बी-१२ की कमी के कारण भी पैरों की नसों में थक्का बनने की समस्या हो सकती है। एक्सरसाइज एवं दवा से यह समस्या दूर हो सकती है।
डॉ. साकेत गोयल, हृदय रोग विशेषज्ञ, कोटा

एक्सपर्ट कमेंट
एक ही अवस्था में ज्यादा देर तक न बैठें। हर घंटे में उठकर थोड़ा चलें या कुर्सी पर बैठे हुए ही पैरों की एक्सरसाइज करें। साथ ही मोटापे एवं डायबिटीज को नियंत्रित रखें। यदि पैरों में सूजन है या किसी सर्जरी के बाद यह समस्या हुई है तो डॉक्टर से संपर्क करें।

Archana Kumawat
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned